Voice Of The People

निर्भया- क्या इंसाफ मिलने में हो गई देरी?

बलात्कारियों को 3 महीनों के अंदर सज़ा मिलनी चाहिए। इंसाफ़ का एहसास तब होता है जब वो समय पर मिले। 6 years, after #Nirbhaya case, has justice finally been delivered? #NirbhayaVerdict #CapitalPunishment. #JanChaupalPradip Bhandari Akriti BhatiaRahul Kumar Prins Bahadur Singh Md Tahseen Raza Anushree M Rastogi

Posted by Jan ki Baat on Monday, July 9, 2018

16 दिसंबर 2012 को दिल्ली ने एक ऐसी घटना को अपनी ऑंखों से देखा कि 17 दिसंबर को हर किसी ने उस मनहूस दिन को कोसा। 6 आदमी और एक औरत, उस औरत के साथ हुई दरिंदगी के बारे में अगर कोई सिर्फ सोच भी ले तो ऑंखे और गला दोनो भर आते है। 16 दिसंबर 2012 की उस मनहूस रात को 6 दरिंदो ने हवस की सारी हदें पार कर दी और अगले ही दिल्ली ने एक होकर निर्भया कि खातिर हर उस हद को तोड़ कर किनारे रख दिया जिसे कभी किसी ने हिलाने कि भी ना सोची हो। करीब 14 दिन तक जिंदगी के लिए लड़ने वाली निर्भया ने आखिर 29 दिसंबर को दम तोड़ दिया लेकिन उसकी हर खुशी, हर अरमान को छीन लेने वाले 6 दंरिदे है- राम सिंह (मृत-मार्च 2013), अक्षय ठाकुर, मुकेश सिंह, विनय शर्मा, पवन गुप्ता, मोहम्मद अफरोज़ (नाबालिग-फिलहाल दक्षिण भारत में कहीं बार्वची के तौर पर कार्यरत है)।

आपकों बता दें कि इन छह दंरिदों में से नाबालिग बलात्कारी मोहम्मद अफरोज़ को जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के अंतर्गत तीन साल की सबसे अधिकतम सज़ा सुनाई गई। लेकिन बाकि बचे चार बलात्कारियों को 10 सिंतबर 2013 को दोषी मानते हुए फांसी की सज़ा सुनाई गई। 13 मार्च 2014 को दिल्ली हाई कोर्ट ने दोषियों की मौत की सज़ा को बरकरार रखा जिसके बाद आरोपियों ने एक बार फिर दया याचिका की भीख सुप्रीम कोर्ट से मांगी। करीब छह साल तक चलने वाले इस मामले में 9 जुलाई 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर अपना फैसला सुनाते हुए चार में से तीन आरोपियों की दया याचिका को खारिज कर दिया है।

निर्भया के साथ जो हुआ वो दिल दहला देने वाला था और पूरे देश ने निर्भया के लिए जल्द से जल्द इंसाफ की गुहार लगाई लेकिन फिर भी छह साल लग गए निर्भया को इंसाफ मिलने में। इस देश की राजधानी के लोगो का क्या कहना है ये जाना जन की बात की फाउडिंग पार्टनर आकृति भाटिया ने। जन की बात ने जन चौपाल कि और चौपाल में मौजूद लोगो से जाना कि उन्हें क्या लगता है? क्या ये फैसला देर से आया? क्या निर्भया के साथ इंसाफ हुआ है? क्या आप खुद दिल्ली में सुरक्षित महसूस करते हैं? चौपाल में मौजूद करीब 90 प्रतिशत लोगो को लगता है कि निर्भया को इंसाफ मिलने में देरी हुई है। तो वहीं चौपाल में मौजूद अधिकतर जनता कि मांग थी कि रेप केस के आरोपियों को सिर्फ फांसी की सज़ा ही मिलनी चाहिए। देखिए जन की बात कि ये जन चौपाल-

Must Read

किडनी और कैंसर से पीड़ित मरीजों की मदद के लिए आगे आया जन की बात

जन की बात की टीम के द्वारा लगातार हर संभव प्रयास कर रही है। जिससे इस महामारी के समय हर जरूरत मंद लोगो की...

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

Latest

किस बड़े राज्य में हुए 90% लोग करोना से ठीक ?

भारत में कोरोना के मामले बड़ी तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी बीच एक ऐसी खबर भी आती है जो थोड़ी राहत देने का...

कैसे सिर्फ 4 राज्यों में 65% से अधिक कोरोना संक्रमण

नितेश दूबे,जन की बात पिछले 20 दिनों से भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बड़ी संख्या में बढ़ रहे हैं। तकरीबन हर दिन पिछले...

सरकार कैसे लागू करेगी वन नेशन वन राशन कार्ड स्कीम?

अभिनव शाल्य, जन की बात कोरोना वायरस के संकट के कारण देश में लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूर को खाने की कमी का सामना करना...

आखिर क्यों और किस थीम पर मनाया जाता है World No Tobacco Day

पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना महामारी से लड़ने के लिए तमाम तरह के उपाय कर रही हैं। विश्व की सरकारी भारत में भी केंद्र...