Voice Of The People

चीन की दुरंगी चाल

- Advertisement -

अंतरराष्ट्रीय मंचों और व्यावहारिक अर्थों में किस कदर चीन का व्यवहार अलग होता है, यह किसी से छिपा नहीं हैं। इसका ताजा उदाहरण गुरूवार को इंडोनेशिया के बाली में चल रहे जी-बीस (G-20) देशों की बैठक के दौरान देखने को मिला। वहां भारत और चीन के विदेशमंत्री अलग से मिले और उन्होंने अपने सीमा विवाद को सुलझाने को लेकर बातचीत की। उस पर चीन ने जल्दी लंबित मामलों को निपटा लेने का भरोसा दिलाया। मगर अगले ही दिन खुलासा हुआ कि चीन की सेना किस तरह लद्दाख क्षेत्र में अपने सैन्य साजो-सामान जमा कर रही है।राडार पर यह भी दर्ज हुआ कि उसका एक लडाकू विमान भारतीय हवाई क्षेत्र को बहुत करीब से गुजरा। यह वही क्षेत्र है, जहां दो साल पहले दोनों देशों के सैनिक गुत्थमगुत्था हुए थे। इस पर स्वाभाविक ही भारतीय सेना ने कडी आपत्ति दर्ज कराई है। इसके अलावा यह भी कि जब हमारे प्रधानमंत्री ने तिब्बती धर्मगुरू दलाई लामा के जन्मदिन पर शुभकामना देने पहुंचे तो उस पर भी चीन ने एतराज जताया। यह पहली बार नहीं है जब वह अंतरराष्ट्रीय मंचो पर तो सदाशयता दिखाते हुए भारत के साथ मधुर संबंध बनाने की इच्छा जाहिल करता है, पर असल में भारतीय जमीन पर कब्जा करने की अपनी नीति को विस्तार देता नजर आता है। इस वक्त चीन की सेना पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में भारतीय सीमा के निकट एस-चार सौ रक्षा प्रणाली सहुत अत्याधुनिक तकनीक वाले लडाकू जेट विमान और वायु रक्षा उपकरणों से जुडे अभ्यास कर रही है। पहले वह मिग श्रेणी के विमानों की तैनाती करता रहा है, मगर इस बार अधिक मारक क्षमता वाले लडाकू विमानों को तैनात किया गया है।

बताया जा रहा है कि दो दर्जन से अधिक चीनी लडाकू विमान तैनात हैं। वह अपने दो हवाई क्षेत्रों होतान और गुंसा को अत्याधुनिक सैन्य साजो-सामान से लैस कर रहा है। हालांकि पहले भी युद्धाभ्यास के नाम पर उसके सैनिक भारतीय क्षेत्र में प्रवेश कर डेरा डाल लेते रहे है और कडा एतराज जताने पर वापस लौट जाते रहे हैं। मगर पिछले दो सालों से जिस तरह वह भारतीय सीमा पर अपनी सशक्त मौजूदगी बनाता देखा जा रहा है, उसके इरादे साफ हैं। उसने लद्दाख क्षेत्र में सडकों और पुलों का निर्माण और हवाई पट्टी को उन्नत बनाया है। जाहिर है, वह वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपनी सैन्य ताकत बढाकर वह भारत पर दबाब बनाना चाहता है। लंबे समय से भारत उसकी आंखों मे खटकता रहा है। अमेरिका से भारत की नजदीकी उसे रास नहीं आती और न उसे यह बर्दाश्त होता है कि भारत आर्थिक रूप से उन्नति कर रहा है। भारत की बढती ताकत से अगर सबसे अधिक किसी को खतरा है , तो वह चीन को। उसने पहले ही भारतीय भूभाग के बडे हिस्सो पर अनाधिकृत कब्जा कर रखा है, जिसे छोडने को आज तक तैयार नहीं हुआ। उसके बावजूद वह अरूणाचल और लद्दाख में अपनी उपस्थिति बढा कर सामरिक रूप से भारत का भयादोहन करने के फिराक में रहता है। इसी रणनीति के तहत उसने पाकिस्तान, अफगानिस्तान , नेपाल और श्रीलंका को अपने पक्ष ने करने का प्रयास किया। मगर भारतीय सेना ने सदा उसके मंसूबों पर पानी फेरा है । लद्दाख में तैनात भारतीय सेना ने उसकी हवाई ताकत बढाने की रणनीति को रोक दिया। ताजा घटना पर सख्त एतराज जता कर भारत ने जाहिर कर दिया कि उसकी ऐसी हरकतें कतई बर्दाश्त नहीं की जाएंगी ।

( लेखक के सभी विचार व्यक्तिगत है।)

SHARE
Ankita Singh
Ankita Singh
Ankita Singh Has 7 Year+ experience in journalism Field. Visit her Twitter account @INDAnkitaS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest