Voice Of The People

एसएससी स्कैम को लेकर एसएससी छात्र-छात्राओं ने किया धरना-प्रर्दशन: जानिए पूरा माजरा

‘‘अभी तो ली अंगड़ाई है, आगे और लड़ाई है‘‘ ‘‘हम अपना अधिकार मांगते, नही किसी से भीख मांगते‘‘ ‘‘संघर्ष करेंगे जीतेंगे, इस बार नही हम छोड़ेंगे‘‘ कुछ इसी तरह के नारों से करीब दो घंटे तक दिल्ली यूर्निवर्सिटी का नाॅर्थ कैमपस गूंजता रहा। दरअसल, आॅर्ट फेक्लटी के सामने एसएससी स्कैम को लेकर एसएससी छात्र-छात्राओं ने धरना-प्रर्दशन किया और अपने नारों के जरिए एसएससी के हाइकमान अफसरों तक अपनी बात पहुॅंचाने की कोशिश की। एसएससी छात्र-छात्राओं का ये धरना-प्रर्दशन दरअसल बीतें दिनों हुए एसएससी स्कैम को लेकर किया जा रहा था जिसका जायजा जन की बात टीम लेने पहुॅंची।

जन की बात टीम ने जब प्रर्दशन कर रहे छात्र-छात्राओं से बातचीत की तो जाना कि वे सभी अपनी कुछ मांगों के साथ 21 मार्च को हल्ला बोल कार्यक्रम करने जा रहे है जिसमें देशभर का युवा उनके साथ जुड़ेगा और एसएससी स्कैम के चलते हुई नाइंसाफी के लिए इंसाफ की आवाज लगाएगा। गौरतलब है कि एसएससी स्कैम के विरोध में छात्र-छात्राओं द्वारा किए जा रहे इस धरना-प्रर्दशन मे उनकी मांग कि इस पूरे स्कैम की सीबीआई जांच कराई जाए क्योकि इस स्कैम के चलते सीजीएल परीक्षा को देने वाले देशभर के करीब 1 लाख 89 हजार 843 युवाओं का भविष्य बीच में ही लटक गया है। 9,372 रिक्तियों पर भर्ती के लिए होने वाली ये परीक्षा दरअसल कई चरणों में होती है ताकि कोई भी परिक्षार्थी किसी को भी अपना प्रश्न या उत्तर ना बता सकें लेकिन 21 तारीख को होने वाली इस परीक्षा को पहले ही पेपर लीक होने के चलते रद्द कर दिया गया था।

बता दें कि प्रर्दशन कर रहें इन छात्र-छात्राओं की मांग सिर्फ सीबीआई जांच नही है, प्रर्दशनकर्ताओं के मुताबिक हर साल कम हो रही एसएससी की सीटों की संख्या बढ़ाई जाए ताकि देश का युवाओं दर-ब-दर भटकता हुआ ना नज़र आए। एसएससी द्वारा सराकरी नौकरी के लिए देशभर का युवा अपना जोर आज़माता है लेकिन कुछ लोग थोड़े से पैसों के लालच में देश और योग्य आवेदकों के साथ छल करते है इसलिए प्रर्दशनकर्ताओं की ये भी मांग है कमीशन से की वो ऐसे लोगो को ढूंढे और उन्हे पुलिस के हवाले करें। इसी के साथ इन छात्र-छात्राओं की ये मांग है कि एसएससी परीक्षाओं की फीस को कम करके एसएससी को सभी के लिए सुलभ बनाया जाए और परीक्षाओं के रद्द होने पर उस परीक्षा का शुल्क वापिस किया जाए। इन्ही सब मांगो के साथ धरना-प्रर्दशन कर रहे एसएससी छात्र-छात्राओं ने जन की बात को बताया कि जबतक उनकी ये सभा मांगे स्वीकार नही कर ली जाती है वे अपना ये धरना-प्रर्दशन करना बंद नही करेंगे।

Must Read

किडनी और कैंसर से पीड़ित मरीजों की मदद के लिए आगे आया जन की बात

जन की बात की टीम के द्वारा लगातार हर संभव प्रयास कर रही है। जिससे इस महामारी के समय हर जरूरत मंद लोगो की...

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

Latest

किस बड़े राज्य में हुए 90% लोग करोना से ठीक ?

भारत में कोरोना के मामले बड़ी तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी बीच एक ऐसी खबर भी आती है जो थोड़ी राहत देने का...

कैसे सिर्फ 4 राज्यों में 65% से अधिक कोरोना संक्रमण

नितेश दूबे,जन की बात पिछले 20 दिनों से भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बड़ी संख्या में बढ़ रहे हैं। तकरीबन हर दिन पिछले...

सरकार कैसे लागू करेगी वन नेशन वन राशन कार्ड स्कीम?

अभिनव शाल्य, जन की बात कोरोना वायरस के संकट के कारण देश में लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूर को खाने की कमी का सामना करना...

आखिर क्यों और किस थीम पर मनाया जाता है World No Tobacco Day

पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना महामारी से लड़ने के लिए तमाम तरह के उपाय कर रही हैं। विश्व की सरकारी भारत में भी केंद्र...