Voice Of The People

मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार क्यों गिरी, प्रदीप भंडारी ने बताई अंदरुनी वजह

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिर गई है और अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान वहां के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके हैं। जन की बात के फाउंडर प्रदीप भंडारी ने बताया कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार क्यों और कैसे गिरी?

कांग्रेस में शुरू से तीन कैंप थे

प्रदीप भंडारी ने बताया कि कांग्रेस में शुरू से ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के 3 गुट थे। तीनों गुट एक-दूसरे को गिराने में लगे रहते थे। मध्यप्रदेश में कांग्रेस को जिताने में कमलनाथ और ज्योतिराज सिंधिया का रोल अहम था। मुख्यमंत्री कमलनाथ बने लेकिन सिंधिया ने कमलनाथ से अधिक चुनावी रैलियां की थी। सरकार बनने के बाद कांग्रेस ने सिंधिया को किनारे कर दिया और जो भी सिंधिया के लोगों को मंत्री बनाया गया उनमें से किसी को भी बड़ा मंत्री पद नहीं मिला। 

ज्योतिरादित्य सिंधिया स्वाभिमानी और जमीनी नेता थे और 1 साल से इंतजार कर रहे थे। लेकिन जब पानी सर से ऊपर गया और तब सिंधिया कांग्रेस छोड़ने का मन बना चुके थे। 

कमलनाथ को था कांग्रेस शीर्ष नेताओं का समर्थन

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने कहा कि कमलनाथ को शुरू से कांग्रेस के शीर्ष नेताओं को समर्थन मिला। 1984 के दंगे में कमलनाथ का नाम आया था तब भी कांग्रेस के बड़े नेताओं ने उनको बचाया।  जब मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री चुनने की बात आई तो कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने सोचा कि कमलनाथ अधिक उपयोगी साबित होंगे और सिंधिया बड़े लीडर के तौर पर नहीं उभर पाएंगे। कांग्रेस सिंधिया को भांप नहीं पाए कि वह एक जमीन नेता से लड़ाई लड़ रही है। सिंधिया के साथ जो 22 विधायकों ने पार्टी छोड़ी उनका कैरियर सिंधिया ने ही बनाया था। 

आखिरकार सिंधिया ने कहा कि उन्होंने जन सेवा करनी है और उनके पास बीजेपी को छोड़कर कोई अन्य रास्ता नहीं बचा था और आखिरकार उन्होंने बीजेपी ज्वाइन की।

इस लड़ाई में किसकी जीत?

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने बताया कि इस लड़ाई में केवल एक शख्स की जीत हुई वो है दिग्विजय सिंह। दिग्विजय सिंह ने अपने बेटे को मंत्री और विधायक बनवाया और अपने एक रिश्तेदार एमएलए बनवाया। कमलनाथ मुख्यमंत्री पद से हट चुके हैं उनका खेमा मध्य प्रदेश में कमजोर हो चुका। जबकि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी छोड़ दी और बीजेपी ज्वाइन कर ली और मध्यप्रदेश में कांग्रेस में सिर्फ एक जमीनी नेता बचा वो हैं दिग्विजय सिंह। 

इस तरह से इस लड़ाई में सिर्फ दिग्विजय सिंह की जीत हुई और दिग्विजय सिंह ने अपना खोया हुआ वर्चस्व कांग्रेस पार्टी में वापस पाया।

Must Read

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से संवाद किया है न कि लुटियंस लॉबी से

  जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने 30 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए राष्ट्र के नाम संबोधन का...

देश की जनता ने राहुल गांधी को जवाब दे दिया है।: जय पांडा

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने जन की बात कन्वर्सेशन सीरीज में आज भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जय...

कोरोना वायरस चीन का बायोलॉजिकल हथियार है: पूर्व मेजर जनरल जीडी बख्शी

भारत और चीन तनाव के बीच जन की बात के फाउंडर प्रदीप भंडारी ने भारतीय सेना के रिटायर्ड मेजर जनरल जीडी बख्शी से विशेष...

जन की बात ऑनलाइन सर्वे- 66% लोगों ने माना चाइना को मिलिट्री के साथ आर्थिक रूप से भी सबक सिखाया जाए

  आपको बता दें कि 15 और 16 जून को भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प हुई थी। जिसमें भारत के 20...

Latest

अपराधी विकास दुबे का करीबी साथी मुठभेड़ में पुलिस के हाथ चढ़ा, कर रहा बड़े खुलासे

  कानपुर प्रकरण के बाद चर्चित विकास दुबे अभी तक फरार है और पुलिस को अभी तक उसका कोई सुराग नहीं मिला है। लेकिन पुलिस...

क्यों गुरु पूर्णिमा का पर्व है खास, पढ़िए रिपोर्ट

आज पुरे देश व जहाँ जहाँ हिंदू धर्म को मानने वाले है वहां आज गुरु पूर्णिमा पूर्व की धूम है। गुरु का हमारे जीवन...

गाजीपुर में मुख्तार अंसारी तो नोएडा में माफिया संजय भाटी के अवैध निर्माण को ढहाया गया

  उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की अब माफियाओं पर कार्यवाही शुरू हो गई है। जब से विकास यादव प्रकरण का मामला सामने आया है...

मजबूत भारत विश्व शांति को बल देगा, जबकि मजबूत चीन विश्व शांति के लिए खतरा है ।

कल सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अचानक लेह, लद्दाख पहुंचने की खबर आई। प्रधानमंत्री मोदी ने वहां निमू पहुंचकर जवानों का हौसला भी बढ़ाया।...