Voice Of The People

कोरोना की वजह से छुट्टी पर बच्चों का लॉक डाउन पर विचार

नितेश दूबे, जन की बात

विश्व भर में कोरोनावायरस का कोहराम मचा हुआ है। इसका असर भारत में भी है और भारत में 1400 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। कोरोना के चलते देशव्यापी 21 दिनों का लॉक डाउन है जो कि 14 अप्रैल तक है। इस दौरान सभी चीजें बंद कर दी गई हैं और इसका असर छात्र-छात्राओं की पढ़ाई पर भी पड़ा है। स्कूल, कॉलेज ,कोचिंग, प्रतियोगी परीक्षाओं सभी को 14 अप्रैल तक बंद कर दिया गया है। ऐसे ही हमने कुछ कॉलेज स्टूडेंट से बात की और पूछा कि लॉक डाउन का उनकी पढ़ाई पर क्या असर पड़ा है और उनका लॉक डाउन कैसा चल रहा है। 

कैरियर पर असर तो पड़ा है

देश के प्रतिष्ठित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में थर्ड ईयर में पढ़ने वाले छात्र हर्ष बताते हैं कि लोग डाउन का उनका कैरियर पर असर तो पड़ा है। उन्होंने यह भी कहा कि इससे उनकी कक्षाएं – परीक्षाएं स्थगित हो गई हैं और कब चालू होगी इसका कुछ पता नहीं है। पढ़ाई इसी वर्ष की होगी या फिर चौथे ईयर में डायरेक्ट प्रवेश मिलेगा इसका भी अभी तक कुछ पता नहीं है।

वहीं पर इलाहाबाद के एविंग क्रिश्चियन कॉलेज से ग्रेजुएशन कर रहे हैं छात्र वैभव सिंह बताते हैं कि इस लॉक डाउन का असर कैरियर और पढ़ाई पर तो पड़ा है। लेकिन मजबूरी भी है कि जान है तो जहान है, अगर जान नहीं रहेगा तो कैरियर कहा रहेगा। 

नई किताबें पढ़ रहे

इस दौरान हमने दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्रों से भी बात की। दिल्ली यूनिवर्सिटी के भारती कॉलेज की दीक्षा बताती हैं लॉक डाउन के समय हमें एक दूसरे को सपोर्ट करने की जरूरत है, टाइम को यूटिलाइज करने की जरूरत है। वहीं पर दिल्ली यूनिवर्सिटी के भारती कॉलेज की ही किरण शर्मा जो कि पत्रकारिता की पढ़ाई कर रही हैं। उनका कहना है कि लॉक डाउन के टाइम को यूटिलाइज कर रही हैं और नोबल और नए-नए किताबें पढ़ रही और कुकिंग भी सीख रही हैं। वहीं पर किरण शर्मा ने बताया कि ऑनलाइन क्लासेस चल रही है और उसका फायदा हो रहा है।

वहीं पर दिल्ली यूनिवर्सिटी के ओपन लरनिंग छात्र सुजीत कुमार बताते हैं कि लॉक डाउन के वक्त कई सारे छात्र अपना समय बर्बाद कर रहे है। लेकिन सभी को किताब को पढ़ना चाहिए और वह स्वंय भी ऐसा ही कर रहे हैं। उन्होंने कहा इस समय का लाभ लेना चाहिए।

Must Read

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

भारत में 47% कोरोना मामले 40 वर्ष से कम आयु वर्ग के

नितेश दूबे, जन की बात कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय हर दिन शाम को...

Latest

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

महाराष्ट्र में ट्रेन भेजने पर घमासान जारी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और रेल मंत्री पीयूष गोयल के बीच यह ट्विटर वॉर 24 मई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फेसबुक लाइव के बाद शुरू हुई।

यूपी में गठित होगा श्रमिक कल्याण आयोग, प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार

कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बाद देश में लाखों प्रवासी श्रमिक विभिन्न राज्यों से अपने गृह राज्य वापस लौट रहे है।

प्रवासी मजदूरों के हर मुश्किलों में साथ खड़ा है जन की बात

  आज पूरा देश इस महामारी से बचाव के लिए देश में लॉक डाउन जैसी समस्या से जूझ रहा है। इस समय अगर सबसे ज्यादा...