Voice Of The People

जन की बात ऑनलाइन पोल:- 97% लोगों ने बोला कि पीएम मोदी को देश का अपना ऐप “कू” और “मित्रों” पर आना चाहिए।

- Advertisement -

भारत अब आत्मनिर्भरता की तरफ आगे बढ़ रहा है। साथ ही साथ विदेशी सोशल मीडिया एप्स के खिलाफ भी लोगों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है, क्योंकि इनके द्वारा लगातार भारत विरोधी बातों का प्रचार किया जा रहा है। आपको बता दे कि पिछले कुछ महीनों से लोगों ने आत्मनिर्भर भारत की अपील को दिल से लिया और इस पर विचार भी करना शुरू कर दिया। ट्विटर से लगातार लोगों की शिकायतें बढ़ती जा रही है और लोग इसके अन्य किसी और प्लेटफार्म पर आना चाहते हैं। इसी संबंध में भारत के युवा मीडिया उद्यमियों ने कू और मित्रों एप की शुरुआत की। “कू” भारत का ट्विटर कहा जा रहा है और सरकार के आत्मनिर्भर प्रोग्राम के तहत पुरस्कार भी प्राप्त कर चुका है। कई बड़े मंत्री और नेता भी अब “कू” पर आने की इच्छा जाहिर कर चुके हैं और कई ने अपना अकाउंट भी बना लिया है। जन की बात भी अब कू और मित्रों पर उपलब्ध है। लगातार आम लोग बड़े लोगों से अपील कर रहे हैं कि वह देश का अपना ऐप इस्तेमाल करें। इसी संबंध में जन की बात के संस्थापक प्रदीप भंडारी ने भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर उनसे अपील की कि वह स्वदेशी ऐप का भी इस्तेमाल करें।

 

इसके साथ ही जन की बात ने ऑनलाइन पोल भी किया कि क्या प्रधानमंत्री मोदी को देश का अपना ऐप “कू” और “मित्रों” पर आना चाहिए? आपको बता दें कि यह पोस्ट ट्विटर पर डाला गया जिसकी अवधि 1 घंटे की रखी गई और 1 घंटे में 509 लोगों ने इस पोल पर अपना जवाब दिया। आपको बता दें कि इस ऑनलाइन पोल के मुताबिक 97% लोग मानते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी को कू और मित्रों ऐप पर आना चाहिए, जबकि 3% लोग मानते हैं कि उन्हें इस पर नहीं आना चाहिए।

 

पोल के मुताबिक बड़ी संख्या में लोग मानते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी को स्वदेशी सोशल मीडिया ऐप्स का भी उपयोग करना चाहिए, ताकि भारत डिजिटल स्पेस में भी आत्मनिर्भरता से आगे बढ़े।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest

SHARE