Voice Of The People

आतंकी वारदात में मारे गए हिंदू टीचर के परिवार ने कहा: “कश्मीर स्वर्ग नही नरक है” 30 साल से हमे निशाना बनाया जा रहा है

- Advertisement -

जम्मू-कश्मीर में गुरुवार को आतंकियों द्वारा दो शिक्षकों की हत्या के बाद घाटी में पिछले पांच दिनों में मारे गए आम नागरिकों की संख्या सात पहुंच गई है। आतंकी ज्यादातर घाटी के हिन्दुओं और गैर मुस्लिमों को निशाना बना रहे हैं। इनमें से छह की हत्या शहर में हुई है। इनमें चार अल्पसंख्यक समुदाय से थे। इस तरह से देखा जाए तो एक बार फिर से जम्मू-कश्मीर को 90 के दशक में लौटाने की साजिश हो रही है।

बीते कुछ दिनों में कब-कब हुई घाटी में वारदात

2 अक्तूबर : श्रीनगर के चट्टाबल निवासी माजिद अहमद गोजरी की आतंकियों ने हत्या की

2 अक्तूबर : एसडी कॉलोनी बटमालू में मोहम्मद शफी डार को गोलियों से भूना

5 अक्तूबर : श्रीनगर के मशहूर दवा कारोबारी माखन लाल बिंदरू की शाम को गोली मारकर हत्या

5 अक्तूबर : एक घंटे बाद चाट विक्रेता बिहार निवासी वीरेंद्र पासवान की हत्या

5 अक्तूबर : कुछ ही मिनट बाद उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा में मोहम्मद शफी लोन की हत्या

7 अक्तूबर : श्रीनगर में महिला प्रधानाध्यापिका समेत दो शिक्षकों की गोली मारकर हत्या

यही नहीं बीते कुछ महीनों में बढ़ी है आतंकी वारदात

2 जून : त्राल में आतंकियों ने भाजपा नेता राकेश पंडिता को मौत के घाट उतारा

8 जून : अनंतनाग में कांग्रेस नेता और सरपंच अजय पंडिता की हत्या

22 जून :  जम्मू-कश्मीर में इंस्पेक्टर परवेज अहमद पर आतंकियों ने घात लगाकर हमला किया

15 जुलाई :  सोपोर में भाजपा नेता मेहराजुद्दीन मल्ला को अगवा किया गया, पर दस घंटे में ही उन्हें मुक्त करा लिया गया।

यह है पूरा मामला 

जानकारी के मुताबिक, गुरुवार सुबह करीब सवा 11 बजे कुछ आतंकियों ने ईदगाह के संगम इलाके में बने गवर्नमेंट ब्वॉयज स्कूल में गोलीबारी की, इसमें स्कूल की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और टीचर दीपक चंद बुरी तरह घायल हो गए। दोनों को तुरंत अस्पताल ले जाया गया, लेकिन दोनों की मौत हो गई. इस बीच सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी कर सर्च अभियान शुरू कर दिया है।

आतंकी वारदातों के बाद गृहमंत्री की उच्च स्तरीय बैठक 

गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की है। बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल, गृह सचिव अजय भल्ला और इंटेलीजेंस ब्यूरो के प्रमुख अरविंद कुमार के अलावा सुरक्षा एजेंसियों के आला अधिकारी, डीजी सीआरपीएफ कुलदीप सिंह, डीजी बीएसएफ पंकज सिंह उपस्थित थे। सुरक्षा के मुद्दे पर हुई यह बैठक करीब दो घंटे 45 मिनट चली। बैठक में लक्षित हत्याओं पर विस्तार से चर्चा हुई।

परिवार ने कहा कश्मीर स्वर्ग नही नरक है 30 साल से हमे निशाना बनाया जा रहा है

आतंकी वारदात में मारे गए दीपक चांद के एक रिश्तेदार ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि ‘हमें अब भी धमकी भरे कॉल आ रहे हैं। कश्मीर स्वर्ग नहीं है, यह नरक है। हमें बीते 30 सालों से टारेगट किया जा रहा है।’

उनके अलावा दो और लोगों का आतंकियों ने अलग-अलग घटनाओं में एक घंटे के भीतर ही कत्ल कर दिया था। गुरुवार को आतंकियों ने श्रीनगर के ईदगाह इलाके में स्थित बॉयज सेकेंडरी स्कूल में हमला किया था और दो अध्यापकों को मौत के घाट उतार दिया।

यहां उन्होंने मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखने वाले अध्यापकों को अलग कर दिया। इसके बाद हिंदू समुदाय के दीपक चंद और सिख अध्यापक सुखविंदर सिंह को गोलियां बरसाकर मौत के घाट उतार दिया।

SHARE
Sombir Sharma
Sombir Sharmahttp://jankibaat.com
Sombir Sharma - Journalist

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest