Voice Of The People

यूपी के चुनावी महागठबंधन पर प्रदीप भंडारी का मुकदमा, पढ़िए उनकी दलील

- Advertisement -

चंदन पांडे, जन की बात

जनता के वकील प्रदीप भंडारी ने बुधवार के मुकदमे में उत्तर प्रदेश की राजनीति में वर्तमान में हो रहे गतिविधियों को मुख्य मुद्दा बनाया। उन्होंने कहा जिस तरह से 2019 में नरेंद्र मोदी जी को रोकने के लिए गठबंधन पर गठबंधन किए गए ठीक उसी प्रकार से अब योगी आदित्यनाथ को रोकने के लिए प्रयास शुरू हो गए है। प्रदीप भंडारी ने सभी पार्टियों से एक ही सवाल पूछा क्या एक योगी आदित्यनाथ को घेरने के लिए आप सभी इकठ्ठे हो रहे हैं ,क्यों ? क्या सपा इतनी कमजोर हो चुकी है ?

सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव लगातार सभी विपक्षी पार्टियों से गठबंधन और तालमेल बिठाने के लिए सभी पार्टी के मुख्य लोगों के साथ बैठक कर रहे है। वहीं बीजेपी भी अखिलेश के इस कदम को निशाना बना रही है । आप नेता सांसद संजय सिंह ने बुधवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की। दोनों ही पार्टियों के बीच गठबंधन को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। संजय सिंह ने कहा कि अखिलेश यादव से आगे की रणनीति पर वार्ता हुई।

बताते चले कि सांसद संजय सिंह 22 नवंबर को सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव को जन्मदिन की बधाई देने गए थे। 24 नवंबर को सपा कार्यालय पहुंचे थे आप सांसद संजय सिंह, वहां भी अखिलेश के साथ करीब 30 मिनट बातचीत चली थी।

प्रदीप भण्डारी ने सीधा सवाल करते हुए पुछा क्या सपा उत्तर प्रदेश में इतनी कमजोर हो चुकी है कि उसे सभी पार्टियों से समझौता करना पड़ रहा है?प्रदीप भण्डारी ने कहा पिछली बार मोदी जी को रोकने के लिए सूत्रधार सोनिया जी और राहुल जी थे। वहीं इस बार योगी जी को रोकने के लिए मुख्य किरदार अखिलेश जी निभा रहे हैं।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest

SHARE