Voice Of The People

राष्ट्रपति के लिए अभद्र टिप्पणी पर अधीर रंजन चौधरी का बयान- “माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता,चाहे मुझे फांसी दे दो”

- Advertisement -

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर कांग्रेस नेता और अधीर रंजन ने अशोभनीय बातें कहने के बाद अब सफाई देते हुए कहा कि मेरी जुबान फिसल गई थी। भाजपा मामले को बेवजह तूल दे रही है। भाजपा के पद कोई मुद्दा नहीं है इसलिए जबरन विवाद खड़ा कर रही है।

अधीर रंजन चौधरी के बयान को लेकर भाजपा की ओर से सोनिया गांधी से जवाब मांगा जा रहा था। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने अधीर रंजन चौधरी के बयान पर कहा कि उनसे grammatically गलती की है, जो कि इंटेंशनली नहीं कहा। भाषा में गलती के कारण इतने बड़े स्तर पर हंगामा करना गलत है।

लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की राष्ट्रपति को लेकर की गई टिप्पणी को लेकर खूब हंगामा हुआ। इस दौरान केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी से माफी मांगने की बात कही। स्मृति ईरानी ने कहा कि देश के गरीब लोगों और आदिवासियों से अधीर रंजन चौधरी और कांग्रेस पार्टी को माफी मांगनी चाहिए।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अधीर रंजन चौधरी के बयान के बाद कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि जब से द्रौपदी मुर्मू का नाम राष्ट्रपति के उम्मीदवार के रूप में घोषित हुआ तब से ही द्रौपदी कांग्रेस पार्टी की घृणा और उपहास का शिकार बनीं। कांग्रेस पार्टी ने उन्हें कठपुतली कहा, अशुभ और अमंगल का प्रतीक कहा।

सोनिया गांधी से ED द्वारा पूछताछ का विरोध कर रही कांग्रेस ने शुक्रवार को भी संसद भवन परिसर में विरोध किया था। इसी दौरान एक निजी चैनल से बातचीत में लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति के लिए ‘राष्ट्रपत्नी’ शब्द का इस्तेमाल किया था।

राज्यसभा में एक संक्षिप्त बयान देते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, “अधीर रंजन चौधरी की टिप्पणी जुबान से फिसली नहीं थी। यह राष्ट्रपति के खिलाफ जानबूझकर किया गया सेक्सिस्ट अपमान था।” वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी कांग्रेस अध्यक्ष से माफी की मांग की। सीतारमण ने कहा, “मैं कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष से माफी की मांग करती हूं जो खुद एक महिला हैं।”

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु पर दिए बयान पर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने सफाई देते हुए कहा कि इस पर माफी मांगने का सवाल ही नहीं है। मेरे मुंह से राष्ट्रपति के लिए गलत शब्द निकला, अब अगर आप मुझे इसके लिए फांसी देना चाहते हैं, तो आप दे सकते हैं। संसद में हुए हंगामे के बाद दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित कर दी गई।

SHARE
Kritarth Nandan
Kritarth Nandan
Kritarth Nandan has 3+ years of experience in journalism. He wrote many articles for our organization. Visit his twitter account @KritarthSingh13

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest