Voice Of The People

जानिए प्रदीप भंडारी ने क्यूँ कहा की उत्तर प्रदेश योगी-राज में वाकई एक बेहतर कल के लिए बदल रहा है?

हाल ही में ‘जन की बात‘ के फाउंडर सीईओ प्रदीप भंडारी जी न्यूज़ के कार्यक्रम ‘ताल ठोंक के‘ में बतौर युवा पत्रकार और उत्तर प्रदेश की राजनीती को नजदीकी से समझने वाले पत्रकार के रूप में शामिल हुए. कार्यक्रम की होस्ट पत्रकार रुबिका लियाक़त हैं और उन्होंने कार्यक्रम का मुद्दा ‘उत्तर प्रदेश निवेश समिट 2018‘ बनाया।

<

बुधवार को यूपी में 4 लाख 28 हज़ार करोड़ के निवेश का ऐलान हुआ था जिसके बाद जन की बात सीईओ प्रदीप भंडारी को ज़ी न्यूज़ के कार्यक्रम ताल ठोकके में योगी सरकार की कामयाबी और नाकामयाबी विषय पर चर्चा के लिए बुलाया गया। इस दौरान प्रदीप भंडारी ने बहुत से ऐसे आकड़ों को जनता के समक्ष रखा जो हककीत में आश्चर्यजनक थे। दरअसल, इस पूरी चर्चा का मुख्य सवाल था कि क्या योगी ने श्मशान और कब्रिस्तान वाली सियासत का जवाब विकास से दिया है? यूपी में निवेशक आया तो क्या निवेश भी आएगा? क्या योगी ने 11 महीनों में यूपी के यूपी के विकास का वनवास खत्म कर दिया है? यूपी को बिमारू राज्य बनाने का जिम्मेदार कौन है?
इन सब सवालों के जवाब में प्रदीप भंडारी ने बताया कि यूपी बदल रहा है और अच्छी तरह से बदल रहा है। उत्तर प्रदेश में पहले जो हम ख़बरें देखते थे वो ये थी कि 11 हजार किडनैपिंग, 6813 सांप्रदायिक मुद्दों, 800 हजार केसेज़ अनुसूचित जनजाती के खिलाफ होती थी।
पहले उत्तर प्रदेश ऐसी व्यवस्था के अंदर था जहाॅं मुजरिमों का गुंडाराज चलता था और अगर ऐसी व्यवस्था में निवेशक एमओयू भी साइन कर लेता था तो वह भी कारगर रूप से परिणाम में तब्दील नही हो पाती थी। और अब आप देखिए की क्या स्थिति है, क्या एक्शन इसके खिलाफ लिया जा रहा है? 2900 मुज़रिमों के खिलाफ एक्शन लिया जा रहा है, 12 मुजरिमों पर हमले पुलिस द्वारा किए जा चुके है, 140 गुंडों की प्रोप्रर्टी को सीज़ कर दिया गया है। दरअसल, एक वातावरण बनाया जा रहा है जोकि पाॅलिसी के लिए जरूरी है। निवेशक अगर पैसा डालेगा तो सुनिश्चित करेगा कि उसका पैसा सेफ भी या नही। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश एक ऐसी स्थिति से गुज़र चुका है जहाॅं पर 35 प्रतिशत आबादी उत्तर प्रदेश की गरीबी रेखा से नीचे है। उत्तर प्रदेश एक ऐसी स्थिति से गुज़र चुका है जहाॅं पर 16 से 17 प्रतिशत आबादी होने के बावजूद सिर्फ 8 प्रतिशत जीडीपी में योगदान देता है तो कही ना कही उत्तर प्रदेश कर्ज में रहा है और इनवेस्टर समिट है कहीं ना कही उत्तर प्रदेश को कर्ज से श्रेय की तरफ ले जाने की तरफ कदम है और जिसमें सबसे जरूरी है लाॅ और आॅर्डर।
जिसके बाद कांग्रेस नेता राशिद अलवी ने एंनकाउंटर में मारे जाने वाले मुजरिमों को कहा भटके हुए युवा कहते हुए धर्म की राजनीति भी करनी चाही जिसका जवाब देते हुए प्रदीप भंडारी ने कहा कि मुजरिम मुजरिम होता है, मुजरिम का कोई धर्म नही होता है, मुजरिम ना हिंदू होता है ना मुसलमान। इसमें भी हिंदू मुसलमान की राजनीति करना गलत है और अगर कोई एनकाउंटर होता है तो उसकी पूरी रिपोर्ट जाती है जिसके बाद डिस्ट्रीक्ट मजिस्टेरियल इन्क्वारी  होती है। हर एनकांउटर की रिर्पोट नेशनल हयूमन राइट्स कमीशन के पास जाती है। अगर किसी का भी एनकाउंटर होता है तो उसका परिवार जाकर ज्यूडीशियल एनक्वारी के लिए अपील कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

भारत में 47% कोरोना मामले 40 वर्ष से कम आयु वर्ग के

नितेश दूबे, जन की बात कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय हर दिन शाम को...

यूपी में इंडोनेशियाई नागरिक मिला कोरोना पॉजिटिव, निजामुद्दीन कार्यक्रम में हुआ था शामिल

नितेश दूबे ,जन की बात उत्तर प्रदेश में सोमवार दोपहर तक कोरोना के कुल...

Latest

जन की बात हर मुश्किल में आपके साथ

साथ ही प्रधानमंत्री ने बंगाल को 1000 करोड़ रुपये जबकि उड़ीसा को 500 करोड़ पर एडवांस देने की घोषणा की।

More than 70 percent favour lockdown extension : Jan Ki Baat state of Nation Survey

Jan Ki Baat Jan Ki Baat Coronavirus Lockdown Extension- Decoding the State of the...

जब प्रधानमंत्री मोदी ने बचाई महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की कुर्सी।

नितेश दूबे देश में इस वक्त कोरोना का काल चल रहा है। लेकिन इसी बीच महाराष्ट्र में सियासी उठापटक की भी स्थिति बनी थी। जी...

क्या बिहार चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं?

नितेश दूबे देशभर में इस वक्त कोरोना का काल चल रहा है और पूरे देश में कोरोना के 1 लाख 10 हजार से ज्यादा मामले...