Voice Of The People

सीवेज की समस्या पर मुख्यमंत्री कार्यालय का जवाब, इस बारे में 2019 में सोचेंगे: दिल्ली नरेला विधानसभा की आँखों देखी दास्तान

दिल्ली में आप के 20 विधयकों की सदस्यता रद्द होने के बाद दिल्ली की जनता के दिल की बात जानने हम पहुंचे नरेला विधानसभा, जहां हमने की आप की बात यानी जन की बात, जन के साथ। आप को बता दें कि, दिल्ली की 20 विधानसभा में से नरेला विधानसभा भी एक ऐसी सीट है जहां के विधायक को आफिस ऑफ प्रॉफिट के चलते उनकी सदस्यता रद्द की गई।

जैसे ही जन की बात टीम ने इस विधानसभा क्षेत्र में दौरा करना शुरू किया तो हमने खुद साफ-साफ देखा की कैसे नालियों का पानी सड़कों पर बह रहा है। क्षेत्र के लोगो से जब जन की बात टीम ने बातचीत की तो उन्होने बताया कि उनके विधायक कभी मिलने ही नही आते है। विधायक शरद चौहान क्षेत्र के लोगो को तीन साल पहले चुनाव प्रचार के दौरान दिखे थे। नरेला विधानसभा क्षेत्र में रहने वाले लोगो की समस्याऐं बहुत ही आम है।सीवेज की समस्या पर मुख्यमंत्री कार्यालय का जवाब, इस बारे में 2019 में सोचेंगे: दिल्ली नरेला विधानसभा की आँखों देखी दास्तान

पिछले 4 महीनों से इलाके के नल सूखे पड़े है, क्षेत्र में शौचालय नही है। पहले से जो एक दो थे, उनको तोड़कर पार्क बना दिया गया है लेकिन जब आप पार्क की हालत देखेंगे तो सिर्फ खाली मैदान और चार दीवारें ही दिखाई देंगी। इलाकें की सड़के ना जाने कितने सालों से गढ्ढा ग्रस्त है और ना जाने कितनी बारी विधायक साहब से शिकायत की गई है लेकिन हर बार जवाब वही पुराना होता है.. आयेंगे.. आपके यहाॅं भी आयेंगे।

क्षेत्र के लोग सीवर की समस्या से भी इतने ज्यादा त्रस्त हो चुके है, अंत में विधायक जी की आस छोड़कर खुद ही 3200 लोगो के दस्तख़त के साथ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दफ्तर में अर्जी भी डाली। लेकिन मुख्यमंत्री के यहाॅं से जवाब आता है कि हम आपकी समस्या का निस्तारण अभी नही कर सकते है, 2019 के बाद इस बारे में विचार किया जाएगा। ज़रा सोचिए कि किस तरह की बदहाली में नरेला विधानसभा क्षेत्र के लोग अपना जीवन जीने को मजबूर है लेकिन आम आदमी की आम आदमी सरकार ने उनकी परेशानियों को खत्म करने के लिहाज़ से कोई खास कदम नही उठाए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

भारत में 47% कोरोना मामले 40 वर्ष से कम आयु वर्ग के

नितेश दूबे, जन की बात कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय हर दिन शाम को...

Latest

महाराष्ट्र में राहुल गांधी के बयान के बाद सियासी घमासान

महाराष्ट्र में कोरोना के साथ-साथ राजनीतिक घमासान मचा हुआ है। बीजेपी - शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन पर आरोप लगा रही है कि तीनों...

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

महाराष्ट्र में ट्रेन भेजने पर घमासान जारी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और रेल मंत्री पीयूष गोयल के बीच यह ट्विटर वॉर 24 मई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फेसबुक लाइव के बाद शुरू हुई।

यूपी में गठित होगा श्रमिक कल्याण आयोग, प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार

कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बाद देश में लाखों प्रवासी श्रमिक विभिन्न राज्यों से अपने गृह राज्य वापस लौट रहे है।