Voice Of The People

निजामुद्दीन मरकज से लौटे लोगों ने बढ़ाया आगरा पर कोरोना संक्रमण का खतरा

निजामुद्दीन के मरकज से निकले लोग देश के विभिन्न हिस्सों में फैल गए। मरकज से आगरा में 28 लोग आए हैं जोकि निजामुद्दीन के मरकज के कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इन लोगों में शामली जौनपुर और आंध्र प्रदेश के पुरुष और महिलाएं शामिल है। एक तरफ जब आगरा शहर में कोरोना का मामला 1 मार्च को सामने आया था। 1 मार्च को आगरा में एक साथ 6 लोग में कोरोना संक्रमण पाया गया था। इसके बाद शहर में कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या काफी धीमी गति से बढ़ रही थी। जबकि अब तक लगभग 7 से अधिक लोग आगरा में कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं।अब जब शहर में निजामुद्दीन मरकज से जुड़े हुए 28 जमातियों के साथ पुलिस ने शहर के 9 मस्जिदों से 76 और जमातियों को पकड़ा है। इसके बाद शहर में कोरो वायरस के खतरे को और गंभीर बना दिया है।

शहर के मघटई मस्जिद में 23 मार्च को 11 जमाती रुके थे।

शहर में पुलिस ने निजामुद्दीन से जुड़े 28 जमातियों के साथ शहर की 9 मस्जिदों से कुल 104 जमातियों को पकड़ा है। चौंकाने वाली बात जमातियों के बारे में यह है यह लोग कोरोना संक्रमण की जांच के लिए अपने आप सामने नहीं आ रहे हैं।

वहीं शहर की मस्जिद में 23 मार्च को 11 जमाती रुके थे। इस बीच यहां जमाती न सिर्फ तमाम लोगो से मिले बल्कि आस पास के पूरे एरिया के गांव में भी भ्रमण किया। ग्राम प्रधान मुकेश के मुताबिक 22 मार्च को कर्फ़्यू के अगले दिन 23 मार्च को यह 9-10 जमाती आए थे। जिसकी उन्होंने पुलिस को सूचना भी थी। जिसके बाद पुलिस ने जमतियों को मस्जिद छोड़कर जाने को भी कहा था। दिल्ली के निजामुद्दीन का मामला सामना आने के बाद इन सभी को पकड़ा गया। इसके बाद मस्जिद को सनिटाइज्ड किया गया। जिसके बाद यहां कुछ नमाज़ी पहुंचे बुधवार को नमाज अदा करी ।

पुलिस ने पकड़े गए सभी 104 जमातियो को मधु रिजॉर्ट में रखा है। और बुधवार को स्वास्थ्य विभाग ने दिल्ली के निजामुद्दीन से जुड़े 28 जमातियों की स्क्रीनिंग की।

Must Read

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

भारत में 47% कोरोना मामले 40 वर्ष से कम आयु वर्ग के

नितेश दूबे, जन की बात कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय हर दिन शाम को...

Latest

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

महाराष्ट्र में ट्रेन भेजने पर घमासान जारी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और रेल मंत्री पीयूष गोयल के बीच यह ट्विटर वॉर 24 मई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फेसबुक लाइव के बाद शुरू हुई।

यूपी में गठित होगा श्रमिक कल्याण आयोग, प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार

कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बाद देश में लाखों प्रवासी श्रमिक विभिन्न राज्यों से अपने गृह राज्य वापस लौट रहे है।

प्रवासी मजदूरों के हर मुश्किलों में साथ खड़ा है जन की बात

  आज पूरा देश इस महामारी से बचाव के लिए देश में लॉक डाउन जैसी समस्या से जूझ रहा है। इस समय अगर सबसे ज्यादा...