Voice Of The People

जमात ने गैरकानूनी और देशहित के खिलाफ काम किया- प्रदीप भंडारी की राय

नितेश दूबे, जन की बात

13 से 15 मार्च के भी निजामुद्दीन में एक जमात ने एक धर्म सभा आयोजित किया गया। जिसमें करीब 3400 मुसलमान शामिल हुए। उस वक्त देश में कोरोना की वजह से 50 से अधिक लोगों को एक जगह पर अधिक इकट्ठा होने की इजाजत नहीं थी। प्रदीप भंडारी ने कहा कि जमात जो कि विश्व के अंदर इस्लाम को फैलाने के लिए जाना जाता है। उसने इस्लाम की आड़ में कोरोना को फैलाया।

13 को ही आया था नोटिफिकेशन

जन की बात कह फाउंडर प्रदीप भंडारी ने कहा कि 13 मार्च को ही दिल्ली सरकार का नोटिफिकेशन आया था कि 200 से अधिक लोग एक जगह पर अधिक नहीं रखता नहीं हो सकते।  वहीं पर 15 मार्च को नोटिफिकेशन आया कि 50 से अधिक लोग एक जगह पर इकट्ठा नहीं हो सकते। 19 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी ने जनता कर्फ्यू की बात की और उसके बाद 21 दिन का देशव्यापी लॉकडाउन हो गया, लेकिन फिर भी जमात के कानों पर जूं नहीं रेंगी। इतना सब कुछ होने के बाद भी निजामुद्दीन के लोगों ने नहीं बताया कि यहां पर 1000 से अधिक मुसलमान है। साथ ही दिल्ली पुलिस भी सो रही थी और उसको पता तक नहीं चला कि यहां पर इतनी बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा हैं।

साथ में ही दिल्ली सरकार पर भी प्रदीप भंडारी ने निशाना साधा और कहा कि दिल्ली सरकार भी सो रही थी। उसे पता नहीं चला कि 15 मार्च के बाद लोग उसके नोटिफिकेशन को फॉलो नहीं कर रहे हैं।

जमात ने क्यों किया इवेंट?

जन की बात के फाउंडर प्रदीप भंडारी ने कहा कि जमात ने यह इवेंट क्यों किया? जब मलेशिया में 13 हजार से अधिक लोग इकट्ठा हुए थे और उसमे से 600 से अधिक लोगों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। जमात ने भी झूठ बोला और इंडिया में टूरिज्म वीजा लेकर दाखिल हुए जबकि धार्मिक कार्य के लिए विजनरी वीजा दिया जाता है। प्रदीप भंडारी ने कहा कि मक्का के अंदर नमाज नहीं पढ़ी जा रही है, पूरे दुनिया भर में कोरोना को लेकर एहतियात बरता जा रहा है। तब जमात ने ये काम करके क्रिमिनल एक्ट किया है। 

प्रदीप भंडारी ने कहा कि हमें और सतर्कता बरतनी चाहिए क्योंकि 2013 में उज्बेकिस्तान, कजकिस्तान में इनके बैन की बात चल रही थी। 2011 में विकिलीक्स का एक डॉक्यूमेंट आया था जिसमें कहा गया था कि तालिबान इनको फ्रंट रो में इस्तेमाल कर रहा है। प्रदीप भंडारी ने कहा कि पिछले 4 दिन में जितने भी मामले कोरोना के मामले सामने आ रहे है उनमें से 30 परसेंट मामले जमात से लिंक है, इससे जाहिर होता कि जमात ने देश के खिलाफ काम किया है।

Must Read

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

भारत में 47% कोरोना मामले 40 वर्ष से कम आयु वर्ग के

नितेश दूबे, जन की बात कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय हर दिन शाम को...

Latest

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

महाराष्ट्र में ट्रेन भेजने पर घमासान जारी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और रेल मंत्री पीयूष गोयल के बीच यह ट्विटर वॉर 24 मई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फेसबुक लाइव के बाद शुरू हुई।

यूपी में गठित होगा श्रमिक कल्याण आयोग, प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार

कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बाद देश में लाखों प्रवासी श्रमिक विभिन्न राज्यों से अपने गृह राज्य वापस लौट रहे है।

प्रवासी मजदूरों के हर मुश्किलों में साथ खड़ा है जन की बात

  आज पूरा देश इस महामारी से बचाव के लिए देश में लॉक डाउन जैसी समस्या से जूझ रहा है। इस समय अगर सबसे ज्यादा...