Voice Of The People

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

आइए मिलिए संदीप और उनके साथी सें जो पैदल ही हरियाणा से मध्यप्रदेश अपने घर की ओर निकल चुके है

संदीप और उनके साथी मध्यप्रदेश के सागर जिले के  रहने वाले हैं। वो काम की तलाश में एक कॉन्ट्रैक्टर के जरिए कुछ महीनों पहले हरियाणा पहुंचे थे जहां पर वो एक फार्म हाउस में रहकर  काम करते  थे। सब कुछ ठीक चल रहा था। लेकिन बीच में लॉकडाउन लग जाने के कारण उन्होंने कई दिनों तक तो इसका सामना किया। लेकिन जब फार्म हाउस के मालिक ने उन्हें उनकी तनख्वाह को देने से मना कर दिया तब संदीप और उनके साथियों ने घर वापसी का इंतजाम बनाया। जिसमे उनकी जितनी जमापूंजी थी एक ट्रक वाले को दिया। जिसमे उस ट्रक वाले ने भी उनसे पैसे तो लिए लेकिन बाद में ट्रक वाले ने ले जाने से इनकार कर दिया। उसने उनके दिए पैसे भी उन्हें नहीं दिए। अब तो संदीप और उनके दो साथी के पास ना सर ढकने के लिए जगह बची थी और ना खाने के लिए राशन। फिर उन्होंने पैदल ही जाने की ठान ली और निकल पड़े पैदल ही बिना किसी इंतजाम के बस पीठ पर एक एक बैग और हाथो में पानी बॉटल जिसमे पानी भी नहीं था।

जन की बात टीम की हुईं रास्ते में मुलाक़ात

जब जन की बात प्रत्येक दिनों की तरह लोगो की सहायता के लिए यमुना एक्सप्रेस वे की तरफ आगे बढ़ रहा था। तब देखने को मिला संदीप और उनके दो साथी पैदल ही चलते हुए धीरे – धीरे यमुना एक्सप्रेसवे से आगरा की तरफ बढ़ते जा रहे थे। तब जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी जी ने अपनी कार रोककर उनके साथ कुछ दूर पैदल चलते हुए उनसे पैदल जाने का कारण पूछा। उन्होंने अपने पर बीती पूरी बात बताई और कहा कि हम तो काम करना चाहते है हमे पता है कि लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा।  तब उनसे जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने उनसे पूरी जानकारी ली और उन्हें घर भेजवाने की व्यवस्था में जुट गए। वहीं उन्हें राशन और साथ में सैनिटाइजर और मास्क के साथ उनको घर पहुंचने के लिए कुछ किराए भी उपलब्ध कराए। वहीं रास्ते में खड़े होकर लगभग आधे घंटे तक कई वाहनों को हाथ मारने पर एक ट्रक को रोककर संदीप और उनके साथियों को उसपे बैठाया गया। जैसे ही संदीप और उनके साथी ट्रक पर बैठे उनकी मुस्कुराहट को देखकर मानिए ऐसा लग रहा था जैसे की दुनिया कि सारी खुशियां आज संदीप और उनके साथियों को मिली है।

जन की बात की टीम और उसके फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी लगातार जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं। जिस भी व्यक्ति को जैसी भी मदद चाहिए उसे पूरा किया जा रहा है।

आपके आस-पास भी किसी को मदद की जरूरत हो तो संपर्क करे- 8882333133

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से संवाद किया है न कि लुटियंस लॉबी से

  जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने 30 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए राष्ट्र के नाम संबोधन का...

देश की जनता ने राहुल गांधी को जवाब दे दिया है।: जय पांडा

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने जन की बात कन्वर्सेशन सीरीज में आज भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जय...

कोरोना वायरस चीन का बायोलॉजिकल हथियार है: पूर्व मेजर जनरल जीडी बख्शी

भारत और चीन तनाव के बीच जन की बात के फाउंडर प्रदीप भंडारी ने भारतीय सेना के रिटायर्ड मेजर जनरल जीडी बख्शी से विशेष...

जन की बात ऑनलाइन सर्वे- 66% लोगों ने माना चाइना को मिलिट्री के साथ आर्थिक रूप से भी सबक सिखाया जाए

  आपको बता दें कि 15 और 16 जून को भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प हुई थी। जिसमें भारत के 20...

Latest

सरदार पटेल के पत्र लिखने के बावजूद पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने यूनाइटेड नेशन की सिक्योरिटी काउंसिल की सीट के लिए मना कर दिया...

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने राज्यसभा सांसद और पूर्व पत्रकार एमजे अकबर का साक्षात्कार लिया। जिसमें उनके हाल ही...

राष्ट्रीय सुरक्षा पर देश को सुभाष चन्द्र बोस और सावरकर से सीखना चाहिए न की गांधी जी से: उदय माहुरकर

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर पत्रकार-स्कॉलर उदय माहुरकर से विशेष बातचीत की। इस दौरान...

चीन से फिर आ सकता है एक और वायरस, जानिए सब कुछ जी 4 वायरस के बारे में

अमन वर्मा (जन की बात) कोरोना वायरस के बारे में सभी जानते हैं, चमगादड़ इस  महामारी का कारण है. चमगादड़ों के संपर्क में आने के ...

जानिए कैसे बिहार के पिलीगंज की एक शादी बनी कोरोना का शिकार, दूल्हे की हुई मौत

अमन वर्मा (जन की बात) पटना के ग्रामीण इलाके में एक शादी समारोह संपन्न हुआ, जहां दूल्हे को तेज बुखार था और इसी बीच उसकी...