Voice Of The People

जन की बात अब “कू” और “मित्रों” पर भी उपलब्ध

- Advertisement -

प्रदीप भंडारी की जन की बात अब दो भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है। भारत का सबसे तेज और विश्वसनीय सेफोलॉजिकल ब्रांड जन की बात और इसके फाउंडर, सेफोलॉजिस्ट प्रदीप भंडारी अब दो भारतीय टेक मीडिया स्टार्टअप “कू” और “मित्रों” पर उपलब्ध हैं।

जन की बात के संस्थापक और सीईओ प्रदीप भंडारी का यह स्पष्ट रुप से मानना है कि भारत 2022 में जब आजादी का 75वां वर्ष मनाएगा, उस समय भारत के नागरिकों की डेटा की सिक्योरिटी भी सबसे महत्वपूर्ण होगी और यह सब तभी संभव है जब भारतीय कंपनियां ही मिलकर आगे बढ़े। भारत का भविष्य युवाओं के हाथों में है और जब युवा एंटरप्रेन्योर माइंडसेट से आगे बढ़ेगा तो भारत का स्टार्टअप इकोसिस्टम भी आगे बढ़ेगा। जन की बात की मौजूदगी इन दोनों गौरवान्वित प्लेटफार्म पर देश की सेवा करने के लिए है। सकारात्मक विचार के जरिए और यूनिक कंटेंट के जरिए प्रो इंडिया नैरेटिव को भी आकार दिया जायेगा।

कू एप एक माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है जिसे अप्रमेया राधाकृष्ण और मयंक बिदावतका द्वारा शुरु किया गया है। कू, भारत की पहली क्षेत्रीय भाषा सोशल मीडिया माइक्रो ब्लॉगिंग साइट है। भारत में नब्बे फीसदी भारतीय भाषाओं में संवाद करना पसंद करते हैं और उनके लिए अपनी मूल भाषा में खुद को अभिव्यक्त करने और उसी समुदाय के अन्य लोगों को खोजने के लिए इंटरनेट पर कोई जगह नहीं है। कू साइट उन भारतीयों को आवाज देता है जो अपनी मातृभाषा पर गर्व करते हैं और भारतीय भाषाओं को पसंद करते हैं। कू हिंदी, कन्नड़, तेलुगु, बंगाली आदि कई भाषाओं में उपलब्ध है।

मित्रों एप ने अप्रैल 2020 में अपनी यात्रा शुरू की जब इसके संस्थापक शिवांक अग्रवाल और अनीश खंडेलवाल ने वीडियो बनाने, एडिट करने और साझा करने के लिए उपयोगकर्ताओं के लिए भारत को एक आसान और सहज इंटरफ़ेस देने का फैसला किया। मित्रों ने एक एकीकृत सोशल मीडिया और ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म विकसित करने की परिकल्पना की, जहां लोग न केवल वीडियो देखने में समय बिताते हैं, बल्कि अपनी सामाजिक संपत्ति बनाने में सक्षम हों और वीडियो में चित्रित उत्पादों को खरीदने में भी सक्षम हों।

इस चुनावी सीज़न में प्रदीप भंडारी की जन की बात इन दोनों ब्रांडों के साथ मिलकर चुनाव सम्बंधित न्यूज़, विचार, वीडियो, और अन्य के लिए इन प्लेटफॉर्म का उपयोग करेगी।

 

इस साझेदारी पर जन की बात के संस्थापक और सीईओ प्रदीप भंडारी ने कहा कि “भारत का भविष्य भारतीयता पर गर्व करने वाले देशभक्त युवाओं द्वारा लिखा जाएगा। जैसा कि भारत की आजादी के 75 साल होने वाले है, तो यह देशभक्ति की कहानी भारत की नियति को आकार देगी। मैं कू और मित्रों के साथ साझेदारी करने के लिए बहुत उत्साहित हूं। मुझे यकीन है कि यह गठजोड़ विश्व स्तर पर भारत को आकार और शक्ति प्रदान कराने के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा।

कू और मित्रों के साथ साझेदारी जन की बात के सभी प्लेटफॉर्म पर 1 फरवरी, 2021 से शुरू होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

जन की बात “कू” पोल- क्या बंगाल में आठ चरण में चुनाव कराना सही निर्णय है?

पश्चिम बंगाल समेत पांच चुनावी राज्यों में अगले 66 दिनों में मुख्यमंत्री तय हो जाएगा। आपको बता दें कि कल ही चुनाव आयोग ने...

बंगाल में आठ चरण में चुनाव क्यों?: प्रदीप भंडारी की राय

पश्चिम बंगाल समेत पांच चुनावी राज्यों में अगले 66 दिनों में मुख्यमंत्री तय हो जाएगा। आपको बता दें कि कल ही चुनाव आयोग ने...

क्या बंगाल चुनाव में महिलाएं बनेंगी “किंग मेकर”? : प्रदीप भंडारी की राय

पश्चिम बंगाल के चुनाव में 2 महीने का वक्त बाकी है और पूरी उम्मीद है कि मार्च के पहले हफ्ते में चुनाव की घोषणा...

जन की बात के “कू” पोल में जानिए प्रधानमंत्री मोदी और ममता बनर्जी में कौन है अधिक लोकप्रिय?

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में 2 महीने का वक्त बाकी है लेकिन चुनावी सरगर्मियां बढ़ चुकी हैं और यह भी अनुमान लगाया जा...

Latest

जन की बात “कू” पोल- क्या बंगाल में आठ चरण में चुनाव कराना सही निर्णय है?

पश्चिम बंगाल समेत पांच चुनावी राज्यों में अगले 66 दिनों में मुख्यमंत्री तय हो जाएगा। आपको बता दें कि कल ही चुनाव आयोग ने...

बंगाल में आठ चरण में चुनाव क्यों?: प्रदीप भंडारी की राय

पश्चिम बंगाल समेत पांच चुनावी राज्यों में अगले 66 दिनों में मुख्यमंत्री तय हो जाएगा। आपको बता दें कि कल ही चुनाव आयोग ने...

क्या बंगाल चुनाव में महिलाएं बनेंगी “किंग मेकर”? : प्रदीप भंडारी की राय

पश्चिम बंगाल के चुनाव में 2 महीने का वक्त बाकी है और पूरी उम्मीद है कि मार्च के पहले हफ्ते में चुनाव की घोषणा...

जन की बात के “कू” पोल में जानिए प्रधानमंत्री मोदी और ममता बनर्जी में कौन है अधिक लोकप्रिय?

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में 2 महीने का वक्त बाकी है लेकिन चुनावी सरगर्मियां बढ़ चुकी हैं और यह भी अनुमान लगाया जा...