Voice Of The People

लापरवाह तंत्र की भेंट चढ़ते निर्दोष

- Advertisement -

उदयपुर में कन्हैयालाल तेली नामक दर्जी की हत्या का मामला अभी शांत नही हुआ था कि महाराष्ट्र में भी ऐसी दिल दहला देने वाली घटना सामने आ गई। हालांकि यह घटना पहले की है, पर खुलासा अब हुआ। पिछले महिने की इक्कीस तारीख को अमरावती में एक दवा विक्रेता उमेश कोल्हे की गला रेतकर हत्या कर दी गई था। हालांकि तब इस मामले को नफरती नजरिए से नहीं देखा गया था और स्थानीय मिडिया और पुलिस ने इसे लूटपाट जैसी घटना बता डाला था। लेकिन बाद में छानबीन की गई तो घटना कुछ और निकली। जैसा कि अब बताया गया है कि इस दवा विक्रेता ने भी भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा के समर्थन में सॉशल मिडिया पर टिप्पणी की थी। इसी से नाराज होकर उनकी हत्या की साजिश रची गई और हत्यारों ने इक्कीस जून की रात उन पर हमला कर दिया जब वे दुकान बंद कर घर वापस लौट रहे थे। जब उदयपुर की घटना हुई और इसके पीछे हत्यारों का मकसद सामने आया, तब अमरावती पुलिस ने भी इसी दिशा में जांच की और खुलासा हुआ कि यह घटना भी उदयपुर जैसी ही थी। इस घटना में भी पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अमरावती घटना की जांच भी एनआइए को सौंप दी। इसमें कोई संदेह नहीं कि उदयपुर में हुई नफरती हत्या की घटना ने देश को हिला दिया। अब अमरावती का मामला भी इसमें जुड गया।देखा जाए तो दोनों घटनाओं में कई समानताएं हैं। जैसे हत्या का कारण एक ही मसले पर उठा विवाद रहा। हत्यारों ने मारने का तरीका भी एक जैसा अपनाया। मारे गए दोनों लोगों ने निलंबित भाजपा प्रवक्ता का समर्थन किया था। जाहिर है, इसे लेकर समुदाय विशेष के लोगों में प्रतिक्रिया पनप रही होगी और योजनाबद्ध तरीके से लोगों को निशाना बनाने की तैयारी की गई होगा। अब जैसा कि उदयपुर की घटना में सामने आया है कि दोनों हत्यारे पाकिस्तान के इशारे पर काम कर रहे थे । इसमें एक हत्यारा कई बार पाकिस्तान भी होकर आया। यह भी कि दोनों लोग लंबे समय से राजस्थान के कई जिलों में सक्रिय रूप से युवाओं को अपने नफरती अभियान में जोडने के काम लगे थे। पर हैरानी की बात है कि पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। भले मामला आंतकी घटना न हो, लेकिन उससे कम भी नहीं है। भारत में होने वाली विवादास्पद व भडकाऊ बातों और घटनाओं का पाकिस्तान किस तरह से इस्तेमाल कर रहा है, यह भी सामने आ गया। ऐसी घटनाएं स्वाभाविक रूप से चिंता बढाने वाली हैं। जिस तरह से अलग-अलग शहरों में दो लोगों को एक विवाद के कारण एक ही तरह से मार डाला गया, उससे तो पहली नजर में यही लगता है कि यह किसी एक व्यक्ति का काम नहीं हो सकता ,बल्कि इसके पीछे ऐसा बडा गिरोह या संगठन काम कर रहा है जो अब तक हमारी खुफिया एजंसियों की नजर से बचता रहा। गौरतलब है कि हर जिले में पुलिस की स्थानीय खुफिया इकाई भी होती है। जैसा कि बताया गया है कि उदयपुर की घटना में लिप्त हत्यारे कई सालों से राष्ट्र और समाज विरोधी गतिविधियों में शामिल थे। इसलिए सवाल उठता ही है कि इतने समय तक पुलिस इससे अनजाम कैसी बनी रही? इन घटनाओं ने एक बार फिर पुलिस और खुफिया तंत्र की नाकामियों को रेखांकित किया है। अगर ये महकमे चुस्त-दुरूस्त रहें, जैसा कि सरकारें दावा करती भी रहती है, तो शायद ऐसी घटनाओं से बचा जा सकता है।

( लेखक के सभी विचार व्यक्तिगत हैं )

 

SHARE
Anup Kumar
Anup Kumar
Anup kumar Has 5 Year+ experience in journalism Field. Visit his Twitter account @AnupPPF

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest