Voice Of The People

कोंडली विधानसभा में लोग है अरविंद केजरीवाल से खुश, लेकिन विधायक से हैं नाखुश

आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों के निलंबन के बाद दिल्ली में उन 20 विधानसभाओं के उप-चुनाव कभी भी हो सकते है। जिसके बाद दिल्ली की जनता को एक बार फिर से मौका दिया जाएगा अपने जन प्रतिनिधि को चुनने का और जनता के मन की बात जानने का.

जन की बात टीम जा पहुॅंची कोंडली विधानसभा क्षेत्र में। जब जन की बात की टीम ने कोंडली क्षेत्र के लोगो से जानना शुरू किया कि क्या इन तीन सालों में उनके क्षेत्र का विकास किया गया है? क्या उनके द्वारा चुनी गई केजरीवाल सरकार ने अपने सभी वादों को पूरा किया है? तो हमें कोंडली से मिले-जुले जवाब मिले। कोंडली क्षेत्र  के कुछ लोगो की मानें तो केजरीवाल सरकार ने अपने सभी वादों को पूरा किया है, उनके द्वारा की गई बिजली और पानी की माफी का फायदा उन्हें मिला है। जबकि कुछ क्षेत्रवासियों का मानना है कि अरविंद केजरीवाल ने अपने वादों के मुताबिक कुछ भी नही किया है। क्षेत्र के लोगो से बातचीत के दौरान जन की बात टीम ने जाना कि जनता को अरविंद केजरीवाल से उतनी दिक्कतें नही है जितनी उन्हें अपने विधायक से है। लोगो का कहना था कि उन्होने अपने जन प्रतिनिधि को इन तीन सालों में एक बार भी जनता के हालातों का जायजा लेते हुए नही देखा।

क्षेत्र के लोगो ने तो यहाॅं तक कह दिया कि अगर अरविंद केजरीवाल आने वाले उप-चुनाव में कोंडली के विधायक पद के प्रत्याशी को बदल देते हैं तो उनका वोट आम आदमी पार्टी को ही जाएगा। जन की बात टीम अभी जनता से बात कर ही रही थी कि चौथी क्लास में पढ़ने वाला एक छोटा सा बच्चा आकर हमें बताता है अपने क्षेत्र की दिक्कतें, पूछने पर उसने बताया कि ‘‘पार्क के टाॅयलेट की सफाई नही होती है, यहाॅं पर लोग कही भी पेशाब कर देते हैं। पार्क के आसपास लोग नशा करते हैं‘‘ सोचने वाली बात तो ये है कि छोटा सा बच्चा अपने क्षेत्र की दिक्कतों को देख रहा है और उन्हें खत्म करने के लिए आवाज भी उठा रहा है। लेकिन कोंडली क्षेत्र के विधायक जी शायद ये सब सोचने और समझने की कोशिश ही नही करते है क्योकि अगर एक 10 साल के बच्चें को ये सब परेशानियाॅं दिख रही है तो उन्हे तो दिखना लाज़मी सी बात है।

Must Read

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

भारत में 47% कोरोना मामले 40 वर्ष से कम आयु वर्ग के

नितेश दूबे, जन की बात कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय हर दिन शाम को...

Latest

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

महाराष्ट्र में ट्रेन भेजने पर घमासान जारी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और रेल मंत्री पीयूष गोयल के बीच यह ट्विटर वॉर 24 मई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फेसबुक लाइव के बाद शुरू हुई।

यूपी में गठित होगा श्रमिक कल्याण आयोग, प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार

कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के बाद देश में लाखों प्रवासी श्रमिक विभिन्न राज्यों से अपने गृह राज्य वापस लौट रहे है।

प्रवासी मजदूरों के हर मुश्किलों में साथ खड़ा है जन की बात

  आज पूरा देश इस महामारी से बचाव के लिए देश में लॉक डाउन जैसी समस्या से जूझ रहा है। इस समय अगर सबसे ज्यादा...