Voice Of The People

AJSU के सुदेश महतो के लिए बना सिल्ली विधानसभा राजनीतिक अस्तित्व बचाने का मैदान

राहुल कुमार, जन की बात

सिल्ली विधानसभा बंगाल-झारखंड बॉर्डर पर स्थित है । यह क्षेत्र महतो समाज और आदिवासी समाज बहुसंख्यक है। यह उन वीआईपी सीटों में आता है जहां पर हर पत्रकार और झारखंड की जनता की नजर है, क्योंकि यहां से आजसू पार्टी के संस्थापक और आजसू के स्टार प्रचारक नेता सुदेश महतो खुद चुनाव लड़ते हैं।

Sudesh Mahto Ajsu
सुदेश महतो, आजसू

यहां जाति समीकरण की बात करें मुंडा समाज 30% से 35% क्षेत्र में है तो वही महतो समाज भी यहां 30% के करीब अपनी पकड़ रखता है।

भाजपा और आजसू ने मिलकर झारखंड में 5 साल सरकार चलाने के बाद सीटों के बंटवारे पर मतभेद होने के कारण चुनाव मैदान में अलग-अलग उतरने का फैसला किया है।

कई राजनीतिक पंडितों का मानना था की आजसू के अलग चुनाव मैदान में उतरने से दूसरे और तीसरे चरण के चुनाव में भाजपा को नुकसान झेलना पड़ सकता है, लेकिन भाजपा ने अपना पुराने साथी को लेकर दिलबरा करते हुए सिल्ली विधानसभा से कोई भी उम्मीदवार नहीं उतारा है, जिसका सीधा फायदा सुदेश महतो को मिलना तय है।

सुदेश महतो पिछली बार सीमा देवी महतो से हारने के बाद इस बार कोई भी कमी नहीं छोड़ना चाहते।

सुदेश महतो सिल्ली विधानसभा से तीन बार विधायक बनकर विधानसभा पहुंच चुके हैं लेकिन लगातार तीन बार विधायक और सरकार में साझेदार होने के बावजूद भी क्षेत्र में पानी से लेकर सड़कों के निर्माण जैसे कई कार्य ना होने के कारण लोगों ने पिछली बार भरोसा नहीं किया था।

इस बार भी चुनौतियां बहुत है लेकिन अपने निकट उम्मीदवार सीमा देवी महतो द्वारा कोई खास काम ना कर पाने की वजह से महतो समाज मैं सीमा महतो की पकड़ कमजोर हुई है ।

आजसू समर्थक

क्षेत्र में घूमते हुए हमें यह साफ दिखा और लोगों से भी जानने को मिला कि, इस बार सुदेश महतो की तरफ से प्रचार-प्रसार और उस पर किए जाने वाला खर्च की देखरेख वे खुद कर रहे हैं। जिसकी वजह से कार्यकर्ताओं में जोश और हर चौराहे पर उनकी फोटो साफ दिखाती है।

पिछली बार कार्यकर्ताओं में इन्हीं सब को लेकर नाराजगी थी जिसका असर पिछले चुनाव में देखने को भी मिला था । जहां सुदेश महतो शहरी और महतो समाज में अपनी पकड़ बनाए हुए हैं तो वही सीमा देवी दूरदराज के आदिवासी गांव खेरो में अपनी वोट बैंक तलाश रही है।

क्या कहते हैं जमीनी समीकरण ?

सुदेश महतो जहां पिछली बार की मिली हार को इस बार पुरानी गलतियों से सीख कर जीत में बदलने की कोशिश कर रहे हैं साथ कार्यकर्ताओं के जोश और लोगों के मिजाज को देखते हुए सीमा देवी पर भारी पड़ने की संभावना है .सीमा देवी का शहरों में कई जगह विरोध देखने को भी मिल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

किडनी और कैंसर से पीड़ित मरीजों की मदद के लिए आगे आया जन की बात

जन की बात की टीम के द्वारा लगातार हर संभव प्रयास कर रही है। जिससे इस महामारी के समय हर जरूरत मंद लोगो की...

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

Latest

किस बड़े राज्य में हुए 90% लोग करोना से ठीक ?

भारत में कोरोना के मामले बड़ी तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी बीच एक ऐसी खबर भी आती है जो थोड़ी राहत देने का...

कैसे सिर्फ 4 राज्यों में 65% से अधिक कोरोना संक्रमण

नितेश दूबे,जन की बात पिछले 20 दिनों से भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बड़ी संख्या में बढ़ रहे हैं। तकरीबन हर दिन पिछले...

सरकार कैसे लागू करेगी वन नेशन वन राशन कार्ड स्कीम?

अभिनव शाल्य, जन की बात कोरोना वायरस के संकट के कारण देश में लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूर को खाने की कमी का सामना करना...

आखिर क्यों और किस थीम पर मनाया जाता है World No Tobacco Day

पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना महामारी से लड़ने के लिए तमाम तरह के उपाय कर रही हैं। विश्व की सरकारी भारत में भी केंद्र...