Voice Of The People

गठबंधन ही नही, खुद की वजह से भी मज़बूत है तबस्सुम बेगम

KAIRANA BYPOLL ELECTIONGround report from Jalalabad.#Kairana #Jalalabad #JanKiBaatInKairana #ByPoll #Elections

Posted by Jan ki Baat on Sunday, May 27, 2018

तबस्सुम बेगम और मृगांका सिंह के बीच होने वाले इन लोकसभा उपचुनावों का नतीजा क्या होने वाला है इसका अंदाजा लगाना बहुत मुश्किल है। अगर तबस्सुम बेगम को गठबंधन पार्टियों के वोट बैंक का समर्थन मिल रहा है तो वहीं मृगांका सिंह को अपने पिता हुकुम सिंह के वोर्टस का साथ मिल रहा है। लेकिन ऐसे में ये कहना गलत होगा कि इन दो उम्मीदवारों के खुद के वोट बैंक नही है क्योंकि अगर मृगांका सिंह शामली, कैराना और थाना भवन में मज़बूत है तो तबस्सुम बेगम नकुड़ और गंगोह विधानसभा में काफी मज़बूत है।

Why loyal voters of Tabassum Begum are supporting her

दरअसल, तबस्सुम बेगम के नकुड़ विधानसभा क्षेत्र में मज़बूत होने की वजह काफी सारी है। पहली, तबस्सुम बेगम का पैतृक गांव दुम्माझेरा नकुड़ विधानसभा क्षेत्र में आता है जिसमें करीब 20 हज़ार वोटर है जो कि 90 प्रतिशत मुस्लिम है। दुम्माझेरा से लगे हुए कुछ और गांव जैसे कि दुड्डाखेरा, इब्राहिमपुरा, चिलगाना में भी अधिकतर आबादी मुस्लिम समुदाय से है और ये सभी तबस्सुम बेगम को खुला समर्थन देते है क्योंकि तबस्सुम बेगम पास के गांव की बेटी हैं। गठबंधन के चलते नकुड़ विधानसभा क्षेत्र में आने वाले पटना और तेलीपुरा गांव के दलित समुदाय भी तबस्सुम बेगम के साथ हैं। हालांकि यहाॅं पर गुर्जर और सैनी भी रहते है। बता दें कि पटना और तेलीपुरा और उसके आसपास के गांवों की आबादी का अंदाजा लगाया जाए तो लगभग 70-80 हज़ार के करीब है। अगर यहाॅं बात पिछले विधानसभा चुनावों की हो तो गठबंधन वाली सभी पार्टियों को कुल मिलाकर 156000 वोट मिले थे तो वहीं भाजपा को 74300 वोट मिले थे लेकिन इस सब में रालोद जो कि इस बार के उपचुनावों में बड़ी पार्टी बनकर उभरी है उसे करीब 700 वोट मिले थे जो नोटा को मिले 1200 वोटों से भी कम थे।

Why loyal voters of Tabassum Begum are supporting her

नकुड़ विधानसभा क्षेत्र में मुनव्वर हसन के परिवार को हमेशा से समर्थन मिलता आ रहा है। 2014 में हुकुम सिंह के विपक्ष में चुनाव लड़ने वाले मुनन्वर हसन और तबस्सुम बेगम के बेटे नाहिद हसन को नकुड़ विधानसभा सीट से काफी समर्थन मिला था और यहाँ से उन्होने लीड भी पकड़ी थी। नकुड़ विधानसभा क्षेत्र में इस बार भी तबस्सुम बेगम को खासा समर्थन मिल रहा है गठबंधन और उनके खुद के वोट बैंक की तरफ से। स्थानीय निवासी आकाश छाबड़ा जो कि एक कपड़ा व्यापारी है, उन्होनें जन की बात टीम को बताया कि क्षेत्र की जनता कहीं ना कहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीएसटी और नोटबंदी जैसे फैसलों से नाराज़ है तो वहीं मुुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ठोस कानून व्यवस्था से काफी प्रभावित है। गौरतलब है कि 28 मई को हुए उपचुनाव में नकुड़ विधानसभा क्षेत्र के पोलिंग बूथ पर ईवीएम की खराबी को लेकर मुस्लिम महिलाओं ने नाराजगी जताते हुए पुलिस थाने का घेराव किया और अपने वोट के अधिकार को इस्तेमाल करने की मांग कि।

Must Read

गैंगस्टर विकास दुबे के साथ सही हुआ, लेकिन जांच जरूरी ताकि उसे पीआईएल लॉबी शहीद न बनाए: प्रदीप भंडारी

  विकास दुबे के एंकाउंटर पर जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने अपना एनालिसिस दिया। इसमें उन्होंने कहा कि विकास दुबे...

रक्षा नीति पर राहुल गांधी सवाल तो उठाते हैं लेकिन रक्षा बैठकों में शामिल नहीं होते: अनुपम खेर

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने आज जन की बात कन्वर्सेशन में मशहूर अभिनेता अनुपम खेर से बातचीत की। इस...

राष्ट्रीय सुरक्षा पर देश को सुभाष चन्द्र बोस और सावरकर से सीखना चाहिए न की गांधी जी से: उदय माहुरकर

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर पत्रकार-स्कॉलर उदय माहुरकर से विशेष बातचीत की। इस दौरान...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से संवाद किया है न कि लुटियंस लॉबी से

  जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने 30 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए राष्ट्र के नाम संबोधन का...

Latest

इम्यून सिस्टम को लेकर आयें चौंकाने वाले नतीजे, प्लाज़्मा थेरेपी को लग सकता है झटका

कोरोना वायरस से बचने के लिए लगातार इम्यून सिस्टम पर ध्यान देने की बात कही जा रही है। साथ ही भारत में कई राज्यों...

जिओ ने मेड इन इंडिया 5G विकसित किया

5G की दौड़ में रिलायंस जिओ देश में अन्य टेलीकॉम कंपनियों जैसे एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल आदि से आगे निकलती...

गाज़ीपुर के इस स्कूल में नियमों को ताक पर रख कर स्कूल प्रबंधन करवा रहा एग्जाम, पढ़े पूरी रिपोर्ट।

  ये तस्वीरें उत्तरप्रदेश के गाज़ीपुर जिले के M.A.H. इंटर कॉलेज की है। जहां राज्य एवं केन्द्र सरकार द्वारा, कोरोना काल में दिए गए सभी...

आखिर सचिन पायलट ने आखिरी समय में क्यों रद्द की प्रेस कॉन्फ्रेंस?

  राजस्थान में सचिन पायलट की आज प्रेस कॉन्फ्रेंस होने वाली थी, लेकिन एकाएक सचिन पायलट ने सुबह यह प्रेस कॉन्फ्रेंस कैंसिल कर दी। आपको...