Voice Of The People

आखिर क्यों और किस थीम पर मनाया जाता है World No Tobacco Day

पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना महामारी से लड़ने के लिए तमाम तरह के उपाय कर रही हैं। विश्व की सरकारी भारत में भी केंद्र तथा राज्य सरकारें आए दिन नए नए नियमों के तहत कोरोना से लड़ने के।लिए नए इंतजाम कर रही है। लेकिन कोरोना ही हनारे जीवन के लिए बड़ा खतरा नही है।

ऐसे अनेकों खतरें है जिनसे आए दिन हम रूबरू होते है। कुछ तो ऐसे है जिन्हें इंसान खुद से गले लगाता है, उन्ही में से एक है तंबाकू जी हां हम सब कुछ जानते हुए भी ताउम्र अपनी जिंदगी के साथ खिलवाड़ करते हैं।

तंबाकू निषेध दिवस

एक तरफ जहां पूरी दुनिया मे कोरोना की चर्चा है वही आजभी के दिन यानी 31 मई के दिन विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2020 (World No Tobacco Day) मनाया जाता है। इस दिन की शुरुआत विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के द्वारा इसलिए की गई ताकि लोगों को तंबाकू का सेवन करने के कारण होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक किया जा सके। टोबैको डे इससे होने वाले कई प्रकार के कैंसर और गंभीर स्वास्थ्य जोखिमों से बचे रहने के बारे में भी जानकारी दी जाती है।

31 मई के दिन विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2020 (World No Tobacco Day) मनाया जाता है। इस दिन की शुरुआत विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के द्वारा इसलिए की गई ताकि लोगों को तंबाकू का सेवन करने के कारण होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक किया जा सके।

इस बार वर्ल्ड नो टोबैको डे 2020 की थीम युवाओं पर केंद्रित हैं।विश्व स्वास्थ संगठन द्वारा इस बार वर्ल्ड नो टोबैको डे 2020 की थीम “युवाओं को इंडस्ट्री के बहकावे से बचाते हुए, उन्हें तंबाकू और निकोटीन का उपयोग करने से रोकना है।”

स्मोकिंग,हुक्का, कच्ची तंबाकू, पान मसाला आदि पदार्थ तंबाकू से कहीं ना कहीं जरूर तैयार किए जाते हैं और युवाओं के द्वारा इसका बड़े पैमाने पर सेवन भी किया जा रहा है जो उनके स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा है।

पहली बार कब मनाया गया यह दिन?

आपको बता दें कि, (WHO) के द्वारा 1987 में इस दिन को प्रभाव में लाया गया था। 31 मई 1988 को WHO42.19 प्रस्ताव पास हुआ, जिसके बाद यह वर्ल्ड नो टोबैको डे के नाम से हर साल 31 मई को मनाया जाने लगा।

जैसे कि आप जानते है तंबाकू और इससे बने पदार्थों का सेवन करने के कारण फेफड़ों का कैंसर, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, लिवर कैंसर, मुंह का कैंसर, डायबिटीज का खतरा, हृदय रोग कोलन कैंसर और महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर जैसी कई प्रकार की गंभीर बीमारियां हो जाती हैं।

इन बीमारियों से बचने के लिए उन्हें तंबाकू का सेवन करना छोड़ देना चाहिए। क्योकि तंबाकू से लाइलाज औऱ प्राण घातक रोग होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

गैंगस्टर विकास दुबे के साथ सही हुआ, लेकिन जांच जरूरी ताकि उसे पीआईएल लॉबी शहीद न बनाए: प्रदीप भंडारी

  विकास दुबे के एंकाउंटर पर जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने अपना एनालिसिस दिया। इसमें उन्होंने कहा कि विकास दुबे...

रक्षा नीति पर राहुल गांधी सवाल तो उठाते हैं लेकिन रक्षा बैठकों में शामिल नहीं होते: अनुपम खेर

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने आज जन की बात कन्वर्सेशन में मशहूर अभिनेता अनुपम खेर से बातचीत की। इस...

राष्ट्रीय सुरक्षा पर देश को सुभाष चन्द्र बोस और सावरकर से सीखना चाहिए न की गांधी जी से: उदय माहुरकर

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर पत्रकार-स्कॉलर उदय माहुरकर से विशेष बातचीत की। इस दौरान...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से संवाद किया है न कि लुटियंस लॉबी से

  जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने 30 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए राष्ट्र के नाम संबोधन का...

Latest

इम्यून सिस्टम को लेकर आयें चौंकाने वाले नतीजे, प्लाज़्मा थेरेपी को लग सकता है झटका

कोरोना वायरस से बचने के लिए लगातार इम्यून सिस्टम पर ध्यान देने की बात कही जा रही है। साथ ही भारत में कई राज्यों...

जिओ ने मेड इन इंडिया 5G विकसित किया

5G की दौड़ में रिलायंस जिओ देश में अन्य टेलीकॉम कंपनियों जैसे एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल आदि से आगे निकलती...

गाज़ीपुर के इस स्कूल में नियमों को ताक पर रख कर स्कूल प्रबंधन करवा रहा एग्जाम, पढ़े पूरी रिपोर्ट।

  ये तस्वीरें उत्तरप्रदेश के गाज़ीपुर जिले के M.A.H. इंटर कॉलेज की है। जहां राज्य एवं केन्द्र सरकार द्वारा, कोरोना काल में दिए गए सभी...

आखिर सचिन पायलट ने आखिरी समय में क्यों रद्द की प्रेस कॉन्फ्रेंस?

  राजस्थान में सचिन पायलट की आज प्रेस कॉन्फ्रेंस होने वाली थी, लेकिन एकाएक सचिन पायलट ने सुबह यह प्रेस कॉन्फ्रेंस कैंसिल कर दी। आपको...