Voice Of The People

आजादी के स्वर्णकाल के लिए पीएम मोदी ने देश को दिलाए 5 प्रण, अगले 25 सालों का बताया प्लान

- Advertisement -

आजादी के अमृत महोत्सव के भव्य आयोजन पर आज स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से लगातार 8वीं बार प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को संबोधित किया। उन्होंने देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देते हुए स्वतंत्रता के बाद राष्ट्र निर्माण में योगदान देने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पंडित जवाहर लाल नेहरू, सरदार वल्लभभाई पटेल, वीर सावरकर और कई अन्य स्वतंत्रता सेनानियों एवं महापुरुषों को याद किया तथा उन्हें नमन किया। इसके साथ ही उन्होंने लोगों से 2047 तक पांच प्रण का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि जब सपने बड़े होते हैं. जब संकल्प बड़े होते हैं तो पुरुषार्थ भी बहुत बड़ा होता है

पीएम मोदी के 5 प्रण

पहला प्रण- अब देश बड़े संकल्प लेकर ही चले. बहुत बड़े संकल्प लेकर चलना होगा। बड़ा संकल्प है, विकसित भारत

दूसरा प्रण- किसी भी कोने में हमारे मन के भीतर गुलामी का एक भी अंश अगर अभी भी है तो उसको किसी भी हालत में बचने नहीं देना है. अब शत प्रतिशत सैंकड़ों साल की गुलामी में जो हमें जकड़कर रखा है, हमें उससे मुक्ति पानी ही होगी.

तीसरा प्रण- हमें हमारी विरासत पर गर्व होना चाहिए. यही विरासत जिसने कभी भारत का स्वर्णिम काल दिया था. इस विरासत के प्रति हमें गर्व होना चाहिए.

चौथा प्रण- एकता और एकजुटता। 130 करोड़ देशवासियों मे एकता. न कोई अपना न कोई पराया. एकता की ताकत एक भारत श्रेष्ठ भारत के सपनों के लिए हमारा चौथा प्रण है.

पांचवां प्रण- नागरिकों का कर्तव्य. जिसमें पीएम भी बाहर नहीं होता, सीएम भी बाहर नहीं होता है. वो भी नागरि हैं. आने वाली 25 साल के सपनों को पूरा करने के लिए एक बहुत बड़ी प्राणशक्ति है. जब सपने बड़े होते हैं. जब संकल्प बड़े होते हैं तो पुरुषार्थ भी बहुत बड़ा होता है.

SHARE
Vipin Srivastava
Vipin Srivastava
journalist, writer @jankibaat1

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest