Voice Of The People

प्रदीप भंडारी से गहलोत के करीबी मंत्री खाचरियावास ने कहा- अगर डेढ़ साल पहले विद्रोह करने वालों को नोटिस दिया जाता तो आज ये स्थिति उत्पन्न न होती

- Advertisement -

राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच इंडिया न्यूज़ के न्यूज डायरेक्टर प्रदीप भंडारी ने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी मंत्री और विधायक प्रताप सिंह खाचरियावास से विशेष बातचीत की। इस बातचीत के दौरान प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि यह कांग्रेस पार्टी का अंदरूनी मामला है और इसे इतना तूल नहीं देना चाहिए। प्रताप सिंह ने कहा कि कल हम लोग सुबह एक मंदिर में गए थे और वहां पर नेटवर्क नहीं आता है। शाम को हम 6 बजे पहुंचे तो अशोक गहलोत जी ने हमसे कहा कि आप खड़गे जी और मकान जी को लेकर मेरे आवास पर पहुंचिए।

इसके बाद प्रदीप भंडारी ने प्रताप सिंह से पूछा कि अगर राहुल गांधी और सोनिया गांधी कहते हैं कि सचिन पायलट मुख्यमंत्री के उम्मीदवार हैं, तो इस पर आप लोगों की क्या राय होगी? इसके जवाब में प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि ऐसा कोई फैसला नहीं आया है आलाकमान से विधायकों के पास कि सचिन पायलट जी को मुख्यमंत्री बनाया जाए। वहीं इसके बाद प्रदीप भंडारी ने अजय माकन कि उस बात पर सवाल पूछा जिसमें अजय माकन ने कहा था कि गहलोत समर्थक विधायकों ने अनुशासनहीनता दिखाई है।

प्रदीप भंडारी के सवाल के जवाब में प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि अजय माकन जी हमारे बड़े भाई हैं और कल रात हमने साथ बैठकर खाना खाया है। अगर हमें कोई नोटिस मिलता है तो उसका सा सम्मान जवाब देंगे लेकिन अच्छा होता जब कुछ विधायकों ने डेढ़ साल पहले अनुशासनहीनता दिखाई थी, तो उनको भी नोटिस दिया गया होता तो आज स्थिति उत्पन्न ना होती।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest