Voice Of The People

आखिर क्यों कोर्ट ने की सफूरा जरगर की जमानत याचिका पर तल्ख टिप्पणी

आपको बता दें कि एनटीसीए प्रोटेस्ट के नाम पर हिंसा भड़काने के आरोप में जेएनयू छात्रा सपुरा जरगर को एक बार फिर कोर्ट से जमानत नहीं मिली है आपको बता दें कि जरगर के वकील ने उन्हें स्वास्थ्य के आधार पर जमानत मांगी थी। खबरें यह है कि सपुरा जरगर प्रेग्नेंट है और वह जमानत पर बाहर निकल कर घर रहना चाहती हैं लेकिन कोर्ट ने ऐसा करने से मना कर दिया और सपुरा जरगर को जेल में ही रहना होगा।

कोर्ट ने क्या कहा?

आपको बता दें कि उनकी जमानत याचिका पर कोर्ट ने कहा कि भले ही उन्होंने कोई प्रत्यक्ष रूप से हिंसा ना की हो लेकिन उन्होंने गैर कानूनी गतिविधि अधिनियम (UAPA) अधिनियम के प्रावधानों के खिलाफ जाकर कार्य किया है।  इस दौरान कोर्ट ने कहा कि उनके खिलाफ भड़काऊ भाषण के भी साक्ष्य मिले हैं और प्रथम दृष्टया यह साबित भी होता है कि चक्का जाम के दौरान उनकी साजिश थी।

आपको बता दें कि इस पर जरगर के वकील ने कहा कि वह प्रेग्नेंट है। तो इस पर कोर्ट ने कहा कि उनकी चिकित्सीय व्यवस्था को अच्छी तरीके से सुनिश्चित करने के लिए पुलिस अधीक्षक को निर्देश भी दिया। साथ ही कहा कि उन्हें तिहाड़ जेल प्रशासन अच्छी चिकित्सा व्यवस्था मुहैया कराई जाए। सफूरा जरगर जेएनयू में एमफिल की छात्रा है।

क्या है आरोप?

आपको बता दें कि सरकार के विरोध की आड़ में सफूरा जरगर पर दिल्ली हिंसा को बढ़ावा देने का आरोप है। आपको बता दें कि 22 फरवरी को जफराबाद मेट्रो स्टेशन पर दूसरा शाहीन बाग बनाने महिलाओं को लेकर सफूरा जरगर ही वहां पर पहुंची,ऐसा पुलिस का कहना है। आपको बता दें कि सीएए और एनआरसी के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों में सफूरा जरगर कई बार भड़काऊ भाषण देते हुए भी दिखती हैं। ऐसे उनके कई वीडियो क्लिप भी पाए गए हैं। साथ ही साथ दिल्ली में हुए भयानक दंगों में सफूरा जरगर की भूमिका भी मानी जा रही है क्योंकि कई सबूतों में उनका नाम आया है और दंगा फैलाने वालों के नेटवर्क की वह अहम कड़ी थी।

आपको बता दें कि सफूरा जरगर गैरकानूनी अधिनियम यानी यूएपीए के तहत जेल में बंद है। उन पर दिल्ली दंगों को बढ़ावा देने का आरोप है। साथ ही साथ सीएए और एनआरसी के विरोध की आड़ में हिंसा फैलाने का भी आरोप है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से संवाद किया है न कि लुटियंस लॉबी से

  जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने 30 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए राष्ट्र के नाम संबोधन का...

देश की जनता ने राहुल गांधी को जवाब दे दिया है।: जय पांडा

जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने जन की बात कन्वर्सेशन सीरीज में आज भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जय...

कोरोना वायरस चीन का बायोलॉजिकल हथियार है: पूर्व मेजर जनरल जीडी बख्शी

भारत और चीन तनाव के बीच जन की बात के फाउंडर प्रदीप भंडारी ने भारतीय सेना के रिटायर्ड मेजर जनरल जीडी बख्शी से विशेष...

जन की बात ऑनलाइन सर्वे- 66% लोगों ने माना चाइना को मिलिट्री के साथ आर्थिक रूप से भी सबक सिखाया जाए

  आपको बता दें कि 15 और 16 जून को भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प हुई थी। जिसमें भारत के 20...

Latest

चीन से फिर आ सकता है एक और वायरस, जानिए सब कुछ जी 4 वायरस के बारे में

अमन वर्मा (जन की बात) कोरोना वायरस के बारे में सभी जानते हैं, चमगादड़ इस  महामारी का कारण है. चमगादड़ों के संपर्क में आने के ...

जानिए कैसे बिहार के पिलीगंज की एक शादी बनी कोरोना का शिकार, दूल्हे की हुई मौत

अमन वर्मा (जन की बात) पटना के ग्रामीण इलाके में एक शादी समारोह संपन्न हुआ, जहां दूल्हे को तेज बुखार था और इसी बीच उसकी...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से संवाद किया है न कि लुटियंस लॉबी से

  जन की बात के फाउंडर एंड सीईओ प्रदीप भंडारी ने 30 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए राष्ट्र के नाम संबोधन का...

कैसे टिक टॉक बंद होने के बाद हिंदुस्तानी चिंगारी ऐप हिंदुस्तान में छाया? पढ़िए रिपोर्ट

  भारत चीनी सेना के बीच झड़प के बाद देश में चीन के प्रति लोगों में काफी नाराजगी भरा माहौल है। उसे देखते हुए भारत...