Voice Of The People

मेरा बेटा अभिमन्यु के रूप में महाभारत में घुसा है, अर्जुन के रूप में बाहर निकलेगा।: समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े ने प्रदीप भंडारी से कहा

- Advertisement -

अनुप्रिया, जन की बात

क्रूज ड्रग्स केस में मुंबई NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के खिलाफ इंटरनल विजिलेंस जांच शुरू हो गई है। वानखेड़े पर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग केस में रिहा करने के लिए 25 करोड़ रुपए की डील करने का आरोप है। आज जनता का मुकदमा शो पर प्रदीप भंडारी ने समीर वानखेड़े के परिवार वालों से बातचीत की और जानने की कोशिश कि,की आखिर क्या वज़ह हैं जो समीर वानखेड़े को टारगेट किया जा रहा है।क्योंकि समीर वानखेड़े पिछले15 साल से बड़े ही निःस्वार्थ औऱ नीडरता से अपना काम कर रहे है।

इस पूरे मामले पर प्रदीप भंडारी ने समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े से एक्सक्लूसिव बातचीत की।बातचीत के दौरान ज्ञानदेव वानखेड़े कहते है सारे मामले की जानकारी होने के बाद हम लोगों का मोरल बहुत डाउन हुआ था लेकिन मेरे बेटे ने मुझे बताया कि आप लोग डरो मत ,हमारे साथ जनता है।मेरे बेटे ने जब मुझसे बात की थी तो उन्होंने मुझसे कहा था कि पापा आप डरो मत, मैं सब देख लूंगा। मेरे बेटे ने कहा हैं, कि क्या पता मैं घर आऊंगा भी या नहीं आऊंगा, लेकिन आप लोग डरना मत क्योंकि यह लोग बहुत ताकतवर लोग हैं कुछ भी कर सकते हैं। आगे उनके पिता कहते हैं कि मुझे समझ नहीं आता की कोई आदमी एक ईमानदार अधिकारी पर इतना आक्रमक कैसे हो सकता है? क्या पता उनको ड्रग वालों से पैसा मिलता हो? उनके भी ड्रग वालों से तार जुड़े हो? हमारे ऊपर मानसिक दबाव है क्योंकि लगातार धमकियां मिल रही हैं। कभी वानखेड़े को वर्दी उतारने की धमकी मिल रही है तो कभी जेल भेजने की धमकी मिल रही है। मेरे बेटे ने कभी भी अपने परिवार के लिए काम नही किया। बल्कि हमेशा अपने देश के लिए और सरकार के लिए काम किया।उनके मुताबिक यह इसलिए किया जा रहा है ताकि जांच को प्रभावित किया जा सके। क्या पता इस ड्रग मामले में और बड़े-बड़े तार खुले और ये डर रहें हैं इसलिए आरोप लगा रहे हैं?

प्रदीप भंडारी ने जब नवाब मलिक द्वारा उन पर लगाए गए आरोपों और दिखाए गए सर्टिफिकेट के बारे में पूछा तब जवाब देते हैं की नवाब मलिक ने जो सर्टिफिकेट दिखाया है वह डुप्लीकेट भी हो सकता है। पता नहीं उन्होंने कहा से बनाया? उनके पास पैसा है, मंत्री हैं वह कुछ भी कर सकते हैं।’मेरा नाम ज्ञानदेव कचरूजी वानखेड़े है। यह नाम मुझे जन्म से ही दिया गया है। यह मेरे स्कूल, कॉलेज, एनसीसी और सर्विस रिकॉर्ड में है। मुझे नहीं पता दाऊद नाम कहां से आया है’।’नवाब मलिक रावण है, उसके दस सर, दस हाथ है। वो कुछ भी कर सकता है। हम हिंदू धर्म के लोग है, कभी भी धर्मांतरण नहीं किया, फिर भी मुझे दाऊद बोल रहा है’।मैंने 35 साल पुलिस की नौकरी की, कभी भी मेरे नाम पर कोई विवाद नहीं हुआ। मेरा वर्तमान नाम ही मेरा असली नाम है। हर सर्टिफिकेट में मेरा यही नाम है।अंत में उन्होंने यह कहते हुए अपनी बात को खत्म किया कि मेरा बेटा अभिमन्यु की तरह घुसा है और अर्जुन की तरह वापस आएगा।

प्रदीप भंडारी आज के एपिसोड को नीचे दिए हुए लिंक पर देख सकते हैं साथ ही इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया आप ट्विट्टर पर @jankibaat1 को टैग कर दे सकते हैं ।

SHARE

Sombir Sharma
Sombir Sharma - Journalist

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest

SHARE