Voice Of The People

17 जून को ही कर दिया था कन्हैयालाल के कत्ल का ऐलान फिर भी राजस्थान पुलिस ने कार्यवाही क्यों नहीं की: प्रदीप भंडारी की दलील

- Advertisement -

राजस्थान के उदयपुर में नूपुर शर्मा के समर्थन की वजह से दिनदहाड़े कन्हैयालाल नाम के एक टेलर का गला रेत दिया गया है. पुलिस ने वारदात के कुछ घंटों बाद दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि, चौंकाने वाली बात यह है कि 17 जून को ही आरोपियों ने इस बात का ऐलान कर दिया था कि वह कन्हैयालाल की हत्या कर देंगे. उन्होंने बकायदा इसका वीडियो भी जारी किया था. मंगलवार को अपने शो जनता का मुकदमा पर शो के होस्ट प्रदीप भंडारी ने राजस्थान पुलिस पर कई सवाल उठाए.

प्रदीप भंडारी ने कहा कि,’हिंदू दर्जी कन्हैयालाल आराम से अपना काम कर रहा था जिसकी दुकान में भगवान की मूर्ति थी, उसकी दुकान में मोहम्मद अंसारी और गौस मोहम्मद आते हैं नाप सिलवाने के लिए, कन्हैया आराम से नाप ले रहा था, अपना काम कर रहा था मोहम्मद गैस और मोहम्मद रियाज अंसारी उसको पीछे से पकड़ते हैं और उसका सर तन से जुदा कर देते हैं’. यह दरिंदे इतने बेरहम है कि, जैसे एक कसाई बकरे को काटता है वैसे यह हिंदू दर्जी को काटते हैं, और इनकी जरूरत देखिए कि काटते वक्त यह पूरा 130 सेकंड का वीडियो बनाते हैं 130 सेकंड के वीडियो में हिंदू कन्हैया 60 सेकंड से 130 सेकंड तक कहता गया मतलब पूरे 70 सेकंड में कुछ नहीं किया, कन्हैयालाल चीखता गया, 25 सेकंड तक महिलाएं चिल्लाती गई, चीखती गई पर मोहम्मद रियाज और मोहम्मद गैस नहीं रुके और सर तन से जुदा कर दिया.

खून तब खोलता है दोस्तों जब यह दोनों दूसरा वीडियो बनाते हैं. 36 सेकंड का वीडियो जिसमें 11 सेकंड पर यह खुलेआम, पब्लिकली कहता है ‘हिंदू का सर कलम कर दिया’, इसमें यह 20 सेकंड पर कहते हैं भारत के प्रधानमंत्री की गर्दन तक यह अपना छुरा पहुंचाना चाहते हैं. इन दरिंदों में ना कानून का डर है, ना संविधान का, यह वीडियो बनाते वक्त हंसता है, अपना छुरा दिखाता है और हम सेकुलरिज्म का पाठ पढ़ते हैं. सेकुलरिज्म माय फुट, रियलिटी हिंदूफोबिया है.

जानते हैं कन्हैया की क्या गलती थी, उसने कानून का पालन किया, उसने पुलिस में शिकायत दर्ज की, उसने 6 दिन अपनी दुकान बंद रखी और फिर सोचा कि अशोक गहलोत की पुलिस उसको सुरक्षा देगी. पर वही सर तन से जुदा वाली मानसिकता ने जो नूपुर शर्मा को मारने की कोशिश कर रही थी उसने आज कन्हैयालाल का गला काट दिया. कन्हैया कि सिर्फ गलती नूपुर शर्मा का मौखिक समर्थन था.

जानते हैं खून क्यों खोलता है, जब एक फेक न्यूज़ चलाने वाला मोहम्मद जुबेर नूपुर शर्मा के बयान के 24 घंटे बाद ऐसे ही कट्टरपंथियों को उकसाने का वीडियो सार्वजनिक करता है और नूपुर शर्मा की जान हमेशा के लिए खतरे में पड़ जाती हैं. आज यह मोहम्मद जुबेर पुलिस कस्टडी में है पर जुबेर का समर्थन करने वाले आज कन्हैया की हत्या पर चुप क्यों?

जानते हैं खून क्यों खोलता है, जून 17 मोहम्मद रियाज ने वीडियो बनाया था यह कहते हुए, “घबराना मत, बस काट देना”, “यह जितने भी हैं, इनको काट देना”. जून 17 से जून 28 तक राजस्थान पुलिस ने कार्यवाही क्यों नहीं की? मैं और आप सिर्फ देखते रहेंगे और यह कट्टरपंथी कानून हाथ में लेकर सर तन से जुदा करते रहेंगे…

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

Latest