Voice Of The People

त्रिपुरा के बागान बाजार गाँव में नरेगा का पैसा आया तो पर लोगों को मिला नहीं: आमदनी के लिए ईंट ढोने को हैं मजबूर

जन की बात पहुंचा बागन बाजार में. हम जानने पहुंचे नरेगा से आये हुए पैसों का क्या हुआ? इस इलाके में पहले चाय के बागान होते थे, अब यहाँ तालाब के लिए गड्ढा खुदा पड़ा है, जहाँ पर मछली पालन होना था लेकिन कुछ भी नहीं हुआ. इस प्रोजेक्ट के लिए पैसे भी आये थे लेकिन वो कहाँ गए मालूम नहीं. चाय की बागान बंजर जमीन हो चुकी है. २५ साल से बागान बंद पड़े हैं. जो पहले चाय के बागान में काम कर रहे थे, वो आज मजदूरी के धंधे में आ चुके हैं. १२ लाख ५६ अज़्ज़ार खर्च करने के बाद भी बस एक गड्ढा ही खुद पाया.
आगे रिपोर्टर राहुल ने बताया की बाहरी इलाकों में मौजूदा सरकार के खिलाफ लोग नहीं बात करते हैं. लेकिन अंदर के क्षेत्रों में लोग बोलने लगे हैं. वो परेशां हैं. जहाँ कोई भी मीडिया चैनल नहीं जा रहा है वहां जन की बात पहुँच रहा है.
आगे राहुल एक व्यक्ति से बात कर रहे थे, उन्होंने बताया की चाय के बागान बंद कर दिए गए हैं. उन्होंने कहा की हमारी आमदनी के रस्ते बंद करदिये जाएंगे तो लोग गलत ढंगे से पैसे कमाने के ओर बढ़ने को मजबूर होंगे.
एक और युवा ने बताया की, “यहाँ के चाय के बागान के मैनेजर को मार के भगा दिया गया. यहाँ के राजनीतीक पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पैसे न मिलने के कारण चाय बागान बंद करवा दिए”.
उन्होने यह भी बताया की चाय के बागान पर हमारा रोजगार टिका हुआ था, लेकिन आज अब हमे मजदूरी करने दूर इलाकों में जाना पड़ता है. महिलाएं ईंट ढोने दूर दूर इलाकों में जाती हैं.
एक और युवा ने बताया की जन की बात से पहले हमारे पास मीडिया का कोई चैनल नहीं आया और हमारी समस्याएं किसी ने नहीं सुनी.
रिपोर्टर राहुल ने बताय की शहरी इलाकों में सब सरकार से खुश थे लेकिन गाँव के इलाकों में लोगों की बहुत समस्याएँ हैं.
आगे एक और व्यक्ति ने हमे बताया की, “यहाँ कोई सुविधा ही नहीं है. बीपीएल कार्ड में १० लोगों के नाम होते हैं. जिसके लिए लोग परेशां हैं.”
फिर Founder-Ceo प्रदीप भंडारी ने हम सभी को बताया की, “आज से पहले कोई सबल विरोधी नहीं था. यहाँ के इलाकों में बताया की सरकारी योजनाओं का फायदा उन्हें नहीं मिलता जो किसी दूसरी पार्टी को सपोर्ट करते हैं उन्हें भत्ता नहीं दिया जाता, और डर और भय व्याप्त है. जनतंत्र में सबको सब तरह के विचार रखने और विरोध करने का अधिकार होना चाहिए.
आगे देखना होगा की किसकी सरकार यहाँ बनने वाली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

क्यों बना ‘कटघोरा’ छत्तीसगढ़ में कोरोना हॉटस्पॉट ?

दीपांशु सिंह, जन की बात आज लॉकडाउन को लेकर 20 वां दिन है। वहीं पर...

बिहार में एंबुलेंस संचालन का जिम्मा जेडीयू सांसद के पास

नितेश दूबे, जन की बात दरअसल 2 दिन पहले बिहार में एक 3 साल...

भारत में 47% कोरोना मामले 40 वर्ष से कम आयु वर्ग के

नितेश दूबे, जन की बात कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय हर दिन शाम को...

Latest

आजादी के बाद देश में सबसे बड़ा टिड्डी दल का हमला

  देश के किसानों के लिए इस वक्त करोना वायरस से ज्यादा बड़ा मुद्दा टिड्डी दल का हमला बन गया है। पाकिस्तान से आया टिड्डीयों...

महाराष्ट्र में राहुल गांधी के बयान के बाद सियासी घमासान

महाराष्ट्र में कोरोना के साथ-साथ राजनीतिक घमासान मचा हुआ है। बीजेपी - शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन पर आरोप लगा रही है कि तीनों...

मुश्किलों में आपका साथी जन की बात

लॉकडाउन हमारे बचाव के लिए है। लेकिन जब हमारे मालिक ने हमे तनख्वाह और राशन देने को माना दिया तब हमें मजबूरन ऐसा करना पड़ा

महाराष्ट्र में ट्रेन भेजने पर घमासान जारी

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और रेल मंत्री पीयूष गोयल के बीच यह ट्विटर वॉर 24 मई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फेसबुक लाइव के बाद शुरू हुई।